झाबुआ~आरटीई -ऑनलाइन प्रवेश के लिए चुनना होगा 3 स्कूलों का विकल्प-स्कूल का चयन करते समय पूरी तरह देखने के बाद ही आवेदन पोर्टल पर लॉक करना होगा~~



झाबुआ। संजय जैन~~

शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत शैक्षणिक सत्र 2021-22 में निजी स्कूलों में 25 प्रतिशत सीटों पर नि:शुल्क प्रवेश के लिए प्रारंभ हो गई है। निजी स्कूलों में एक चौथाई आरक्षित सीटों पर प्रवेश की आखिरी तारीख 30 जून 2021 है। ऑनलाइन आवेदन के दौरान बच्चे के प्रवेश के लिए कम से कम 3 स्कूल का विकल्प भरना होगा। स्कूल का चयन करते समय अभिभावक पूरी तरह देखने के बाद ही आवेदन पोर्टल पर लॉक करना होगा।कोरोना संक्रमण के कारण सत्र 2020-2021 में निजी स्कूलों में आरटीई के दाखिले नहीं हो सके थे, इसलिए इस बार राज्य शिक्षा केंद्र ने दोनों सत्र के एडमिशन करवाने का निर्णय लिया है। नए सत्र के एडमिशन दो चरण में होंगे।






दोगुना होगी सीटों की संख्या .....
पिछले सत्र के लिए एक ही लॉटरी राउंड निर्धारित किया गया है। खास बात यह है कि नि:शुल्कशिक्षा के लिए एडमिशन से वंचित स्टूडेंट्स को इस साल एडमिशन का अवसर मिल सकेगा। सीटों की संख्या दोगुना होगी। पोर्टल पर नि:शुल्क आवेदन गुरुवार से शुरू हो गए हैं। 30 जून तक नए सत्र के लिए आवेदन किए जा सकेंगे। वेरीफिकेशन सेंटर्स जहां पर टीकाकरण हो रहा है उसकी जगह सत्यापन केंद्र दूसरे स्कूलों में बनाए जाएंगे। दोहरे एडमिशन होने के कारण इस साल जिले के जरूरतमंद परिवारों के स्टूडेंट्स को निजी स्कूलों में एडमिशन का लाभ मिल सकेगा।






कोविड-19 में पालकों की मौत,उन बच्चों को भी नि:शुल्क प्रवेश मिलेगा....
आरटीई के तहत निजी स्कूलों में प्रवेश के लिए कोविड-19 के दौरान माता-पिता या अभिभावकों की मौत के कारण अनाथ हुए बच्चे को बाल कल्याण योजना में पात्र माना है। उन्हें पात्रता अनुसार बाल कल्याण योजना का लाभ मिल सकेगा। इसके तहत बच्चों की पढ़ाई और पालन पोषण के लिए 5 हजार रुपए हर माह बच्चों के अभिभावकों को दिया जाएगा। जबकि पहले से ही वंचित समूह जैसे अनुसूचित जाति,जन जाति,वन भूमि पट्टाधारी परिवार, विमुक्त जाति,नि:शक्त एवं एचआईव्ही ग्रसित तथा कमजोर वर्ग में बीपीएल कार्ड धारी व अनाथ बच्चों को प्रवेश दिया जाता है।






अभिभावक बच्चों को इन कक्षाओं में प्रवेश दिला सकेंगे....
नि:शुल्क प्रवेश के लिए कक्षा नर्सरी, केजी-1 और केजी-2 में ऑनलाइन आवेदन करना है। जिसके लिए उम्र 3 से 5 साल होना चाहिए। जबकि कक्षा 1 में प्रवेश के लिए कम से कम उम्र 5 से 7 साल रहेगी। पालक इन्हीं कक्षाओं में अपने बच्चों को प्रवेश दिला सकेंगे। शैक्षणिक सत्र 2021-22 के प्रवेश के लिए आवेदक की आयु की गणऩा दिनांक 16 जून 2021 की स्थिति में की जाएगी। बच्चे को आवंटित कक्षा नोशनल होगी। बच्चा उसके प्रवेश की अगली कक्षा में पढ़ेगा। राज्य शिक्षा केंद्र निजी स्कूल को उसी सत्र की फीस प्रतिपूर्ति करेगा,जिस सत्र में बच्चे को पढ़ाया गया है।






वर्ष 2021-22 की प्रवेश प्रक्रिया एक नजर में.....
-30 जून तक-पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन और त्रुटि सुधार।
-14 जून से 1 जुलाई -पोर्टल से पावती,मूल दस्तावेजों का सत्यापन,पात्र एवं अपात्र के एसएमएस भेजना।
-6 जुलाई -रेंडम पद्धति से ऑनलाइन लॉटरी द्वारा स्कूल का आवंटन एवं चयनित आवेदकों को एसएमएस द्वारा सूचना।
-6 से 16 जुलाई -आवंटित स्कूल में उपस्थित होकर प्रवेश प्राप्त करना।
-19 जुलाई -प्रवेश का दूसरा चरण शुरु होगा।
-19 से 25 जुलाई -च्वॉइस फिलिंग।
-28 जुलाई-सीट आवंटन।
-28 जुलाई से 7 अगस्त-स्कूल पहुंचकर एडमिशन लेना।






वर्ष 2020-21 के लिए प्रवेश प्रक्रिया.....
-7 से 20 जुलाई -पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन और त्रुटि सुधार।
-8 से 21 जुलाई -पोर्टल से पावती, मूल दस्तावेजों का सत्यापन, पात्र एवं अपात्र के एसएमएस भेजना।
-26 जुलाई -रेंडम पद्धति से ऑनलाइन लॉटरी द्वारा स्कूल का आवंटन एवं चयनित आवेदकों को एसएमएस द्वारा सूचना।
-26 जुलाई से 7 अगस्त-आवंटित स्कूल में उपस्थित होकर प्रवेश प्राप्त करना,मोबाइल एप द्वारा बच्चों का एडमिशन रिपोर्टिंग और एडमिशन लेने के 15 दिनों में बच्चे का आधार सत्यापन करना।




Share To:

Post A Comment: