दसई~ देशी शराब दुकान नेताओं की मिलीभगत से ठेकेदार का खेल प्रशासन फिर फेल सोया आबकारी विभाग करें कार्रवाई तो जाना पड़े ठेकेदार को जेल~~

जगदीश चौधरी खिलेडी 6261395702~~

दसई~~शासन ने फिर मुख्य बाजार में संचालित कर दी देशी शराब दुकान नेताओं की मिलीभगत से ठेकेदार का खेल प्रशासन फिर फेल सोया आबकारी विभाग करें कार्रवाई तो जाना पड़े ठेकेदार को जेल~~

शराब दुकान हटाने के लिए ग्रामीणों के द्वारा कई बार दिए गए आवेदन लेकिन आज तक कोई सुनवाई नहीं
क्षेत्र मे सत्ता व विपक्ष के नेता भी नहीं दे रहे ध्यान ठेकेदार की मनमानी पर क्यों है,मोन

गांव में वर्षों से मुख्य बाजार में देशी शराब की दुकान संचालित की जा रही है इस देशी शराब की दुकान को गांव से बाहर ले जाने को लेकर रहवासी सहित व्यापारी लामबंद हो गए हैं
बताया जा रहा है कि शराब की दुकान ठीक सॉई मंदिर के सामने ही है साथ ही इस शराब दुकान के सामने से ही कुमारपाट,चौटिया बालोद, बस स्टैंड जाने वाला एक मुख्य मार्ग होने के साथ रहवासी बस्ती है।  मुख्य स्थान पर शराब की दुकान होने से आने जाने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है इतना ही नहीं बाहर से आने वाले स्कूल के छात्र छात्राओं को भी परेशानियों का सामना करना पड़ता है रहवासी क्षेत्र में शराब की दुकान होने से महिला असुरक्षित महसूस करती है साथ ही कुछ ही दूरी पर प्रसिद्ध एकमात्र नरसिंह मंदिर भी है जहां सुबह शाम महिला पूजा अर्चना के लिए जाती है इसी मार्ग से कालका माता मंदिर तक घूमने के लिए लोग जाते हैं।

इन लोगों को भी समस्या के चलते कई बार देखा गया है कि गांव की शराब की दुकान के सामने से गुजरते वक्त शराबी रोड पर गलत भाषा का प्रयोग करते हैं अब तो अकेले बाजार जाते वक्त शराब दुकान के सामने से गुजरने में डर लगता है
शासन को शराब दुकान को गांव से बाहर स्थापित  करने के लिए ग्रामीणों द्वारा आवेदन भी दिए गए हैं लेकिन आवेदनों को भी शासन ने कचरे के ढेर में डाल दिए गए हैं।

शायद माफियाओं के आगे शासन भी ग्रामीणों की आवाज दबाने में लगा हुआ है
 
शराब ठेकेदार के हौसले दिन प्रतिदिन बुलंद होते जा रहे हैं लेकिन प्रशासन व आबकारी विभाग नहीं दे रहा है ध्यान हम आपको बताते हैं कि दसई क्षेत्र में देशी शराब की दुकान की अनुमति शासन द्वारा दी गई है लेकिन दसई क्षेत्र में धड़ल्ले से शराब ठेकेदार द्वारा सप्लाई की जा रही है अंग्रेजी शराब चाहे दिन हो या रात धड़ल्ले से दौड़ते हैं अंग्रेजी शराब से भरे वाहन प्रशासन व आबकारी विभाग को इस चीज की जानकारी होने के बावजूद भी ठेकेदार पर नहीं कर रहे हैं  कोई कार्रवाई

अब देखना यह होगा कि समाचार के बाद भी प्रशासन इस शराब दुकान को यहां से हटाते हैं या गांव के बीच संचालित होती रहेगी शराब दुकान


Share To:

Post A Comment: