धार ~ जागरूकता दिवस पर बुजुर्गों का हुआ सम्मान ~~

पवन वीर राजोद 9993688124~~

धार -  विश्व बुजुर्ग दुर्व्यवहार जागरूकता दिवस पर भोज जागरूक महिला मण्डल के द्वारा बुजुर्गों का कोरोना नियमों का पालन करते हुए सम्मान किया गया।कच्ची कोट कालिका के उद्यान में आयोजित कार्यक्रम की पृष्ठभूमि पर विचार व्यक्त करते हुए डॉ . श्रीकांत द्विवेदी ने बताया कि बुजुर्ग हमारे परिवार की धरोहर है। बुजुर्ग हैं तो परम्पराएँ , रीति - रिवाज तथा संस्कार जिंदा हैं।अतः बुजुर्ग उपेक्षा के  नहीं सम्मान के अधिकारी हैं।
                सम्मानित होने वाले बुजुर्गों में श्रीमती चन्द्रकांता माहेश्वरी , पुजारी पं . रमेश व्यास , योगगुरु जगदीश शर्मा , श्रीमती गुरुवंत कौर एवं श्रीमती बसंती बाई कहार प्रमुख हैं ।सभी बुजुर्गजन का मोतियों की माला एवं श्रीफल भेंटकर सम्मान किया गया। आदरणीय वरिष्ठ जनों ने जनता से निवेदन किया है कि वे सभी यदि अपने अपने घरों में अपने सभी बड़े बुजुर्गों का इसी तरह से सम्मान करें तो वह दिन दूर नहीं जब सभी वृद्धाश्रम बंद हो जाएंगे और हर बुजुर्ग व्यक्ति  को अपना ही परिवार अपना ही घर स्वर्ग लगने लगेगा। बुजुर्गों की जगह  घर का कोई भी अन्य व्यक्ति नहीं ले सकता।वे परिवार का आधार स्तंभ है। यदि कोई बुजुर्ग  पेंशन धारी ना हो या अन्य किसी तरह से उनके पास कमाई का कोई साधन ना हो तो भी उनकी जगह  वही होना चाहिए जो कमाई के समय थी | आयोजन को सफल बनाने में ओमप्रकाश अग्रवाल , विजयारानी सोलंकी , राधेश्याम कहार , ओमप्रकाश सोलंकी , कांता गर्ग, मुक्ता गुप्ता , मुकेश सोलंकी व मीना अग्रवाल आदि का सराहनीय सहयोग रहा। कार्यक्रम का संचालन जीत कौर ने किया।


Share To:

Post A Comment: