सीहोर~नसरुल्लागंज में हुआ आधा कत्ल की गुनहगार पुलिस प्रशासन आल्हा अधिकारी भी अगर दारु की दुकान लॉकडाउन में संपूर्ण बंद रहती तो यह दोनों आरोपी इतना बड़ा गुना नहीं करते और बच जाती एक व्यक्ति की जान~~

नसरुल्लागंज से जिला सीहोर व्युरो आनंद अग्रवाल की रिपोर्ट~~


नसरुल्लागंज वे आधे कत्ल की  गुनहगार पुलिस प्रशासन आला अधिकारी भी  है क्योंकि जब कलेक्टर द्वारा संपूर्ण जिले में लॉकडाउन लगाया गया था  जिसमें दारू दुकान भी बंद रखी गई थी लेकिन नसरुल्लागंज की दारु की दुकान कभी भी बंद नहीं हुई और जिसे जितनी चाहिए थी उसे भरपूर मात्रा में  दारु मिली  इसकी खबर नसरुल्लागंज के समस्त पुलिस अधिकारी को थी और समस्त न्यूज़पेपर एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया द्वारा बार-बार खबर लगने के बाद भी  पुलिस प्रशासन अधिकारी इस दारु की दुकान को बंद नहीं करवा पाए अगर यह दारू  की दुकान बंद करवा देते तो शायद आज एक व्यक्ति की जान नहीं जाती और जिन व्यक्तियों ने यह कत्ल किया है उसकी मैन बजे दारू पीने के लिए पैसे ना होने के कारण इतना बड़ा गुनाह कर दिया जिन व्यक्तियों ने यह मर्डर किया है उन्होंने दारू पीने के चक्कर में इस व्यक्ति से लूटमार करी और उसी पैसे से  दारू लेकर दारू पी  अगर यह दारू दुकान बंद होती तो यह दोनों व्यक्ति इतना बड़ा गुनाह नहीं करते और एक व्यक्ति की जान बच जाती है अब बताओ इस कत्ल का  गुनहगार कौन पुलिस प्रशासन के आला अधिकारी या अपनी दबंगई से दारु की दुकान खोल कर बैठा वे व्यक्ति


Share To:

Post A Comment: