झाबुआ~छह रवि व एक सर्वार्थ सिद्धि योग से खास रहेगी गुप्त नवरात्रि-शुरुआत 11 जुलाई से~~

झाबुआ। संजय जैन~~

गुप्त नवरात्रि 11 जुलाई से शुरू होगी। एक तिथि क्षय होने से देवी की आराधना के लिए भक्तों को केवल 8 दिन मिलेंगे। कुछ पंचांगों में पंचमी और कुछ में सप्तमी को क्षय बताया गया है।  नवरात्रि में 6 दिन रवि योग और एक सर्वार्थ सिद्धि योग होने से इस दौरान की गई साधना सफल होगी।



गुप्त नवरात्रि की शुरुआत 11 जुलाई से....
ज्योतिषियों के अनुसार गुप्त नवरात्रि साधना करने वाले भक्तों के लिए मानी जाती है। साल की चार में से दो गुप्त नवरात्रि होती है जिनमें देवी की साधना कर सिद्धि प्राप्ति के लिए साधक गुप्त रूप से साधना करते हैं। दो प्रकट नवरात्रि में जनमानस उत्सव के साथ देवी की आराधना करते हैं। ज्योतिषविद् पंडित मोहीत के अनुसार गुप्त नवरात्रि की शुरुआत 11 जुलाई से होगी। एक तिथि क्षय होने से इसमें साधना के लिए 8 दिन मिलेंगे। इस दौरान सात दिन रवि योग रहेगा तथा अष्टमी पर सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है। इससे यह नवरात्रि विशेष हो गई है। इसमें की साधना सफल होगी। भड़ली नवमी 18 जुलाई को है। नवरात्रि स्वयं सिद्ध होती है। 8 दिन की नवरात्रि में 6 रवि योग और सर्वार्थ सिद्धि योग इसे सिद्धिदायक बना रहे हैं। गुप्त साधना करने वालों के अलावा गृहस्थ भी देवी की आराधना,अनुष्ठान आदि करते हैं। उनकी मनोकामनाएं भी पूरी होंगी।






भड़ला नवमी का अबूझ मुहूर्त ....
गुप्त नवरात्रि की नवमी को भड़ली नवमी भी कहते हैं। यह अबूझ मुहूर्त मानी जाती है। इस दिन कोई भी शुभ कार्य बिना मुहूर्त कर सकते हैं। नवमी 18 जुलाई शनिवार रात 3.41 बजे से शुरू होगी और रविवार रात 12.27 बजे समाप्त होगी। भड़ली नवमी पर विवाह,मकान,दुकान,गृह प्रवेश,गृह आरंभ जैसे सभी शुभ कार्य किए जा सकते हैं। इस दिन विवाह को शुभ मानते हैं।






खरीदारी के लिए रवि योग उत्तम माना जाता है....
पंडित मोहीत के अनुसार खरीदारी के लिए रवि योग उत्तम माना गया है। देवी अनुष्ठान,पूजन,सिद्धि साधना के लिए भी रवि योग अत्यंत महत्वपूर्ण योगों में से एक है रवि योग और रवि योग को सूर्य देव की शक्ति प्राप्त है सूर्य अधिष्ठात्री योग माना जाता है इस योगों में है। इसमें जो भी कार्य किया जाता है वह निष्फल नहीं होता है। उस कार्य में सूर्य के समान ऊर्जा आ जाती है। बहुत ही कम ऐसा हुआ है कि इतने रवि योग एक साथ में आए हैं। साधना और मनोकामना को सफल बनाने के लिए रवि योग महत्वपूर्ण है।




Share To:

Post A Comment: