बाकानेर~मां कह एक कहानी बेटा तूने समझ लिया क्या मुझको अपनी नानी कहानी, की सार्थकता को सिद्ध कर दिया है~~

बाकानेर ~सैयद अखलाक अली~~

महिला बाल विकास विभाग की पर्यवेक्षक अरुणा पाटिल ने उन्होंने दो बच्चों की नानी बनकर उन्हें समझा-बुझाकर ब्लॉक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र स्थित एनआरसीएच कुपोषण मुक्ति सुधार केंद्र में भर्ती कराया प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम दगढ़पुरा मैं आंगनवाड़ी केंद्र पर दिव्यांश सुमन राजेश का पुत्र है उसका  जन्म 26/04/2019 है वह बहुत कमजोर था इस कारण कार्यकर्ताओं व सहायिका द्वारा बार-बार उसके घर जाकर उन्हें  समझाते थे कि यह बच्चा बहुत कमजोर है एनआरसी में भर्ती करवा दो यह बच्चा स्वस्थ हो जाएगा बच्चे का परिवार मजबूरी के कारण उसे भर्ती नहीं करवा रहे थे उसके बाद परियोजना अधिकारी सू श्री अर्चना मंडलोई मैडम व श्रीमती अरुणा पाटिल मैडम द्वारा उसके परिवार को समझाया बार-बार हर तरफ से उन्हें समझा कर उस बच्चे को एनआरसी में 20/07/2019 को भर्ती करवाया गया उसी तरह बकानेर क्रमांक 1 मैं शिवम लक्ष्मी शुभम को जिसका जन्म 13/12 /2021 है वह भी जन्म से ही कमजोर हुआ था उसे भी कार्यकर्ताओं व सहायिका द्वारा समझाया गया बार-बार फिर उसी तरह परियोजना मैडम जी व  सुपर वाइजर मैडम द्वारा समझाइश देकर 19/09/2021 को भर्ती कराया गया दगढ़पुरा में दिव्यांश की माता का मानसिक संतुलन ठीक नहीं  होने के कारण  हरिवंश को लेकर उसकी दादी श्रीमती कालीबाई एनआरसी में बच्चे के साथ रह रही है मां कह एक कहानी बेटा क्या तूने समझ लिया मुझको अपनी नानी की कहानी की सार्थकता को पर्यवेक्षक अरुणा पाटिल ने सिद्ध कर दिखाया है हमारे संवाददाता को पर्यवेक्षक अरुणा पाटिल ने बताया मध्यप्रदेश के शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री द्वारा चलाए जा रहे कुपोषित मुक्त जिला और प्रदेश अभियान अंतर्गत धार जिला कलेक्टर आलोक कुमार सिंह अनुविभागीय अधिकारी राहुल सिंह चौहान जनपद पंचायत उमरबन मुख्य कार्य पदाधिकारी श्रीमती रीना चौहान महिला एवं बाल विकास अधिकारी उमरबन अर्चना सिंह मंडलोई के मार्गदर्शन और प्रयास से हम सब मिलकर कुपोषित बच्चों को जल्दी से जल्दी स्वस्थ कर पाएंगे


Share To:

Post A Comment: