धार~मुझे एक और जिन्दगी जीने का अवसर प्रदान करने के लिए डॉक्टरों का आभार व्यक्त करता हूॅ- पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री वर्मा~~

किसी भी कार्य को सही नेतृत्व व मार्गदर्शन से ही कामयाबी हासिल होती है- विधायक श्रीमती वर्मा~

शहर की पहचान वहॉ की स्वास्थ्य तथा शिक्षा सुविधाओं से होती है - कलेक्टर श्री सिंह~~

धार ( डाँ. अशोक शास्त्री )

जिला चिकित्सालय को कई दिनों से इसकी आवश्यकता थी। धार जिले की जनता को आज यह सौगात मिली है। यह एक अनुठी पहल है। विधायक एवं कलेक्टर के अथक प्रयासों से यह संभव हो पाया है। मुझे एक और जिन्दगी जीने का अवसर प्रदान करने के लिए डॉक्टरों का आभार व्यक्त करता हूॅ। यह बात पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा ने जिला चिकित्सालय में विधायक निधि से निर्मित 35 लाख 45 हजार  की लागत के ऑक्सीजन प्लांट के लोकार्पण कार्यक्रम के अवसर पर कही। उन्होने कहा कि कोविड की महामारी में लगातार हमे इसकी लहरों का समाना करना पड़ रहा है। हम प्रयास कर रहे की जिला चिकित्सालय में हमे सभी सुविधाऐं सुनिश्चित कर हर चुनौतियों से निपटने के लिए सक्षम रहे। उपकरणों की व्यवस्था के साथ उसे संचालित करने के लिए टीम की भूमिका भी उतनी ही अहम होती है। इस महामारी के दौरान मेडिकल स्टॉफ ने जो समर्पित भाव से कार्य किया है। उसकी भूमिका को कोई भुला नहीं सकता है। उन्होने कहा कि मैं भी इस बीमारी की चपेट में आया  था। इस महामारी से सम्पूर्ण मानव जीवन पर एक बड़ा संकट आया है। मनुष्य के जीवन को बचाना ही हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता है। आंगनवाडी सहायिका एवं आशा कार्यकर्ता ने इस दौरान घर-घर जाकर सर्वे किए है। हमे उनका सम्मान करना चाहिए। प्रशासन की सक्रियता से यहॉ बहुत से कार्य किए गए है। जिससे अब स्वास्थ्य सेवाऐं और सुदृढ हो रही है।
      विधायक नीना वर्मा ने कहा कि इस पल का लंबे समय से इंतजार था । किसी भी कार्य को सही नेतृत्व व मार्गदर्शन से ही कामयाबी हासिल होती है। कलेक्टर ने आक्सीजन प्लांट के लिए जो भूमिका निभाई वह सराहनीय है। जिले में सीएसआर फंड का उपयोग सही मायने में कलेक्टर के यहॉ आने के बाद ही हुआ है। जिसका इस महामारी में उचित उपयोग हुआ है। इसी का परिणाम है कि हमारे जिले में जनहानि कम हुई है। इस महामारी के दौरान चिकित्सा स्टॉफ ने काफी सपोर्ट के साथ कार्य किया। जिससे उचित उपचार मिलने से लोग स्वस्थ्य होकर अपने घर गए है। जिला चिकित्सालय में अनेको सुविधाऐं उपलब्ध कराई जा रही है।  चिकित्सालय में  बच्चो के लिए एक वार्ड  बनाया गया है। इस महामारी के दौरान बहुत से अपनो को खोया है। इस कार्यक्रम के माध्यम से उनको श्रृद्धाजलि अर्पित करती हूॅ। हमारा प्रयास है कि हमारे जिले को एक मेडिकल कॉलेज मिले जिससे यहॉ की स्वास्थ्य सुविधाऐं और बेहतर हो।
        कलेक्टर आलोक कुमार सिंह ने कहा कि किसी शहर की पहचान वहॉ की स्वास्थ्य तथा शिक्षा सुविधाओं से होती है। हमारा प्रयास है कि हम चिकित्सा सुविधाओं को बेहतर से बेहतर करें। एक जनप्रतिनिधि आगे की दूरदृष्टि से कार्य करता है। इसी के फलस्वरूप आज विधायक निधि से यह ऑक्सीजन प्लांट की सौगात मिली है। यह बहुत कठिन प्लान था किन्तु विधायक श्रीमती वर्मा ने एक छोटी सी विजन से यह कार्य कर दिया।  हमारे जिले के हर सीएचसी में ऐम्बुलेंस की उपलब्धता है।  आक्सीजन की भीषण  आपदा के दौरान पीथमपुर में एक हफ्ते में प्लांट चालू कर उससे 12 जिलों को आक्सीजन उपलब्ध कराई गई। इस दौरान उन्होने चिकित्सालय में लगाए गए आक्सीजन प्लांट की विस्तार से जानकारी भी दी। उन्होने बताया कि जिला चिकित्सालय में 110 तरह की जॉच की जा सकती है। सिविल सर्जन अनुसईया गवली की चिकित्सालय के लिए किए गए कार्यो की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होने जनसेवा के भाव से यहॉ कार्य किए है।
      इस अवसर पर अन्य कार्यो का भी लोर्कापण किया गया जिनमें 7 लाख 40 हजार का नवीन आईवार्ड से पोस्टमार्टम रूम तक का सीसी रोड, 7 लाख 47 हजार का आक्सीजन प्लांट  शेड, 80 लाख 14 हजार का 10 बिस्तरीय पिड़ियाट्रिक आईसीयू शामिल है । इसके पश्चात कार्यक्रम में कोविड काल के दौरान उत्कृष्ट सेवाऐ देने वाले प्रशासनिक अधिकारी , मेडिकल स्टॉफ तथा मीडियाकर्मियों को सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर नगर पालिका उपाध्यक्ष कालीचरण सोनवानिया, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ जितेन्द्र चौधरी सहित अधिकारी, कर्मचारी मौजूद रहे।


Share To:

Post A Comment: