धार~चोरी की नियत से ढाबे में घुसे बदमाशो ने की फायरिंग, मदद करने आए ग्रामीण युवक की फायरिंग में हुई मौत,~~

घटना स्थल पहुंचे धार जिला पुलिस आधिक्षक, आरोपियों को पकड़ने हेतु गठित की 7 थानों की पुलिस टीम~~

धार , ( डाँ. अशोक शास्त्री )

वही लगातार क्षेत्र में एक बार फिर बदमाशो के हौसले बुलंद हो गए है। ढाबे पर चोरी की नियत से आए बदमाशो द्वारा किए गए फायर से एक ग्रामीण की मौत हो गई। घटना के बाद से ही क्षेत्र में सनसनी मच गई तथा पुलिस टीम बदमाशो की तलाश में जुट गई है। जानकारी के अनुसार इंदौर-अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर ग्राम धुलेट से दत्तीगांव के बीच स्थित ग्राम बेवटा में स्थित गोरी ढाबे पर सोमवार रात्रि करीब 3 बजे 10 से अधिक अज्ञात बदमाश चोरी की नियत से ढाबे में घुसे। कुछ बदमाश ढाबे के पीछे बने टीन सेट को उचकाकर अंदर घुसे तथा कुछ बदमाश ढाबे के बाहर खड़े रहे। जैसे ही ढाबा संचालक के पालतू कुत्ते ने भौकना शुरू किया वैसे ही ढाबा संचालक कैलाश पिता शंभू व उनकी पत्नी जाग गए। ढाबा संचालक पर बदमाशो ने पथराव कर उसे ढाबे के अंदर जाने का बोला। जिसके बाद बदमाशो ने ढाबे के अंदर जाकर संचालक तथा उसकी पत्नी से 3 हजार नगदी तथा आभूषण ले लिए। ढाबा संचालक ने अपने मित्र को फोन पर वारदात की सूचना दी। इस दौरान ढाबा संचालक की मदद करने आए उसके मित्र सहित तीन लोगो पर बदमाशो ने फायरिंग कर दी। जिसमे ग्राम बेवटा निवासी करण (भीमा) पिता श्याम कटारा को को बंदूक के छर्रे लगने से उसकी मौत हो गई।

बदमाशो ने किए दो फायर, मौके से मिले कारतूस के खोके - घटना के बाद से ही पूरे क्षेत्र में हड़कंप मच गया है। ढाबा संचालक कैलाश ने बताया कि रात्रि में कुत्ते के भौंकने की आवाज से मेरी नींद खुल गई। बाहर एक व्यक्ति को खड़ा दिखाई दिया। इसी दौरान तीन से चार लोग पीछे से चद्दर उखाड़ कर ढाबे के अंदर घुस गए। मेने सामने ही ग्राम बेवटा में रहने वाले करण उर्फ भीमा फोन लगा कर घटना बताई। जिस पर करण अपने भाई भंवर सिंह तथा अर्जुन तीनों ढाबे की और आए। तो ढाबे के बाहर एक कोने में खड़े बदमाश ने करण पर दो फायर किए। जिससे करण वहीं गिर गया और भवरसिंह और अर्जुन को आते देख बदमाश ढाबे के सामने खेतों की ओर निकल कर भाग गए। फायरिंग की आवाज को सुन ढाबे के सामने रोड के उस पार रहने वाले ग्रामीण जाग गए और ढाबे पर पहुंचे। ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद मृतक करण को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सरदारपुर ले जाया गया। ढाबा संचालक कैलाश ने बताया की बदमाशो की संख्या 10 से अधिक थी। उनमे से तीन लोगो के हाथ में 12 बोर की बंदुके थी तथा एक के पास देशी कट्टा था। बदमाशो की उम्र 30 से 40 वर्ष की होगी तथा उन्होने पेंट शर्त पहने हुए थे एवं मुह कपड़े से ढके हुए थे। साथ ही कैलाश ने बताया की ढाबे के पीछे रहने वाले तीन लोग साजिद, अफसर तथा अज्जु को डरा धमका कर उनसे मारपीट की। घटना स्थल से पुलिस को कारतूस के 2 खोके मिले है।

घटना स्थल पर पहुचे धार एसपी - घटना की जानकारी मिलते ही मंगलवार को जिला पुलिस अधिक्षक आदित्य प्रताप सिह घटना स्थल पर पहुचे तथा घटना की जानकारी ली। जिला पुलिस अधिक्षक को सरदारपुर एसडीओपी आरएस मेड़ा ने घटनाक्रम से अवगत करवाया। वही एसपी श्री सिंह ने मृतक के पिता से चर्चा कर जल्द ही आरोपियों को पकड़ने की बात कही। इस दौरान राजगढ़ थाना टीआई दिनेश शर्मा, सरदारपुर टीआई अभिनव शुक्ला, टांडा थाना प्रभारी विजय वास्केल, रिंगनोद चौकी प्रभारी राहुल चौहान, राजगढ़ थाना उप निरीक्षक राजू मकवाना तथा दिपिका बामनिया आदि मौजूद थे। वही घटना स्थल पर प्रातः एफएसएल अधिकारी पिंकी मेहरडे अपनी टीम के साथ पहुची तथा घटना स्थल की बारीकी से जाँच की।

बदमाशो तक पहुचने के लिए गठित की 7 टीमे - सरदारपुर एसडीओपी आरएस मेड़ा ने बताया की मामला दर्ज कर जाँच में जुट गए है। कुछ क्षेत्रों में दबिश देकर बदमाशो तक पहुचने का प्रयास कर रहे है। आरोपियों को पकड़ने हेतु जिला पुलिस अधिक्षक के मार्गदर्शन में कुल 7 टीमे गठित की है। मामले की जाँच में राजगढ़, सरदारपुर, अमझेरा, राजोद, धरमपुरी, टांडा थाना तथा क्राइम ब्रांच की टीम जाँच में जुटी है।

तीन मासूमो से सिर से उठा पिता का साया - मृतक का घर ढाबे से लगभग सात सौ फीट की दूरी पर है। ढाबा संचालक की मदद करने गए करण उर्फ भीमा की बदमाशो द्वारा की गई फायरिंग में मौत के बाद परिजनो का रो-रोकर बुरा हाल है। मृतक के तीन मासूम बच्चो से सिर से पिता का साया उठ गया है। मृतक के पिता ने बताया की करण के घर में पत्नी के साथ तीन बेटे विशाल, विकास और विजय है। जिसमें सबसे बड़ा बेटा 7 वर्षी का है। करण घर का मुखिया था जो मजदूरी कर परिवार का पालन पोषण करता था।

जांच चल रही
वही टीम बनाकर दी गई है आरोपियों को जल्द ही पकड़ा जाएगा
आदित्य प्रताप सिंह एसपी धार


Share To:

Post A Comment: