झाबुआ~अतिरिक्त योग्यता होने पर कॉलेज के प्रवेश में प्राथमिकता-नहीं मिलेगा यूजी-पीजी किसी कोर्स में प्रवेश यदि विद्यार्थी पर आपराधिक प्रकरण चल रहा है ~~


झाबुआ। संजय जैन~~

माशिमं और सीबीएसई 12वीं का परिणाम शत-प्रतिशत रहा। इसके साथ ही कॉलेज में प्रवेश के लिए मशक्कत शुरू हो गई है। कॉलेज में प्रवेश मेरिट लिस्ट के आधार पर दिया जाता है। इस बार हर दूसरे विद्यार्थी को 90 से 95 फीसदी अंक आए हैं। ऐसे में कॉलेज की मेरिट लिस्ट भी ऊंची जाने की संभावना है। प्रवेश का आधार मेरिट लिस्ट होती है।






छात्रों को शपथ पत्र भी देना होगा....
 इस बार इसके साथ अतिरिक्त योग्यता जैसे एनसीसी,स्पोट्र्स के विद्यार्थियों को प्राथमिकता से प्रवेश दिया जाएगा। पहले उन विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा जिनके अंक सबसे ज्यादा हैं और उनके पास अतिरिक्त योग्यता है। इसके साथ ही यदि विद्यार्थी पर कोर्ट में आपराधिक प्रकरण चल रहा है,उसे यूजी-पीजी किसी कोर्स में प्रवेश नहीं मिलेगा। नई गाइड लाइन में यह भी है कि जिस छात्र ने पहले के सत्र में किसी छात्र नेअधिकारी-कर्मचारी के साथ मारपीट की हो,उसे भी प्रवेश नहीं मिलेगा। उच्च शिक्षा विभाग ने इस संबंध में प्राचार्यों को गाइड लाइन जारी कर दी है। प्रदेश के बाहरी छात्रों को शपथ पत्र भी देना होगा। गलत जानकारी पाए जाने की स्थिति में संबंधित छात्र का प्रवेश निरस्त कर दिया जाएगा।






यूजी के 12 और पीजी के 7 तक होंगे रजिस्ट्रेशन.....
कॉलेजों में प्रवेश प्रक्रिया शुरु हो गई है। ऐसे में स्नातक-यूजी के लिए 12 अगस्त तक रजिस्ट्रेशन होंगे। वेरिफिकेशन 14 अगस्त तक होगा। जबकि 20 अगस्त को सीट आवंटन किया जाएगा। 20 से 25 अगस्त तक फीस भरकर विद्यार्थी प्रवेश ले सकते हैं। इसके साथ ही स्नातकोत्तर -पीजी कक्षाओं में रजिस्ट्रेशन 7 अगस्त तक होंगे। दस्तावेजों का वेरिफिकेशन 9 अगस्त तक किया जाएगा।






ऑनलाइन प्रोसेस-कॉलेज परिसर में सन्नाटा......
कॉलेज में प्रवेश के लिए एक दिन पहले रविवार से ही ऑनलाइन प्रवेश शुरू हो गए हैं। जबकि सोमवार से दस्तावेजों का वेरिफिकेशन शुरू हुआ। हालांकि इस बार वेरिफिकेशन के लिए भी विद्यार्थियों को कॉलेज नहीं जाना होगा। दस्तावेजों का सत्यापन भी ऑनलाइन ही होगा। ऐसे में सोमवार को कॉलेजों में सन्नाटा छाया रहा। एडमिशन संबंधी जानकारी लेने के लिए गिने-चुने विद्यार्थी ही शहर के कॉलेजों में पहुंचे।






14 अगस्त को सीटों का आवंटन किया जाएगा....
14 अगस्त को कॉलेज में सीट आवंटन होगा। विद्यार्थी 14 अगस्त से 19 अगस्त तक फीस जमा करवाकर अपना प्रवेश पक्का करेंगे। इसके बाद दूसरे चरण की प्रक्रिया शुरू होगी। यूजी की प्रक्रिया 27 अगस्त से 14 सितंबर तथा पीजी की प्रवेश प्रक्रिया 21 अगस्त से 11 सितंबर तक चलेगी। सीएलसी में यूजी की प्रवेश प्रक्रिया 16 सितंबर से 30 सितंबर तक तथा पीजी की 14 से 30 सितंबर तक प्रवेश प्रक्रिया चलेगी।






पोर्टल की गति धीमी,पंजीयन के लिए करना पड रहा इंतजार.....
मंगलवार को ई-प्रवेश पोर्टल धीमी गति से चलने के कारण विद्यार्थियों को पंजीयन कराने में एक घंटे तक इंतजार करना पडा। कियोस्क संचालकों ने बताया पंजीयन में दस मिनट का समय लगता है। लेकिन लोड बढऩे के कारण पोर्टल की स्पीड कम रही। इसके चलते पंजीयन में अधिक समय लगा। कोरोना महामारी के कारण प्रवेश प्रक्रिया ऑनलाइन होगी। विद्यार्थियों को दस्तावेजों के सत्यापन के लिए कॉलेज नहीं जाना होगा। इसके लिए सभी बोर्ड को ई-प्रवेश पोर्टल से जोडा गया है। इसके चलते विद्यार्थियों की जानकारी पोर्टल पर दिखेगी।






आवंटन में ही 25 फीसदी ज्यादा सीट,फीस में कोई बढ़ोतरी नहीं ....
प्रवेश प्रक्रिया समय पर खत्म हो सकेए बार-बार राउंड न बढ़ाना पढ़े,इसके लिए उच्च शिक्षा विभाग ने बदलाव किया है। ऑनलाइन प्रवेश के पहले और दूसरे चरण में कॉलेजों की कुल वास्तविक सीटों की तुलना में आवंटन की प्रक्रिया 25 फीसदी ज्यादा सीटों से की जाएगी। अब तक देखा गया है कि जितनी भी सीट अलॉट होती हैं,उनमें 70 से 75 फीसदी छात्र ही प्रवेश लेते हैं। बाकी छात्र पसंद का पाठ्यक्रम नहीं मिलने से फीस जमा नहीं करते। ऐसे में वे सीटें खाली रह जाती हैं। इसे देखते हुए पहले से ही सीट ज्यादा रखी हैं। इसके अलावा फीस में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है।






ऐसे होगा सीट का आवंटन...
किसी कॉलेज में कुल सीटों की संख्या 100 है तो इसकी तुलना में 125 विद्यार्थियों को सीट आवंटन किया जाएगा। इससे ज्यादा विद्यार्थियों को प्रवेश का मौका मिल पाएगा। पिछले साल तक 100 सीट आवंटन पर 70-80 प्रवेश हो पाते थे। बार-बार काउंसलिंग करना पड़ती थी। अब छात्र संख्या ज्यादा होने के बावजूद ऐसी स्थिति नहीं बनेगी।






आईडी पर उपलब्ध रहेगी सूची.....
डॉ.एच.एन.अनिजवाल -प्राचार्य-शासकीय पीजी कॉलेज के अनुसार प्रवेश प्रक्रिया में शामिल सभी कॉलेज को प्रथम चरण की आवंटन सूची पोर्टल पर उनके लॉगिन आईडी पर उपलब्ध रहेगी। आवेदक संबंधित कॉलेज में फीस भुगतान के बाद प्रवेशित छात्रों की सूची सभी कॉलेज अपने आईडी पर देख सकेंगे। इस बार फीस में कोई बढ़ोतरी नहीं की जा रही है। फीस का स्ट्रक्चर वही है जो पहले था।
............डॉ.एच.एन.अनिजवाल -प्राचार्य-शासकीय पीजी कॉलेज,झाबुआ।




Share To:

Post A Comment: