झाबुआ~वैक्सीन लगवा चुके छात्रों को ही मिलेगी कॉलेजों में एंट्री-कम से कम एक डोज अनिवार्य~~


झाबुआसंजय जैन~~

कॉलेजों में यूजी कोर्स-बीए,बीकॉम,बीएससी में पहले चरण की ऑनलाइन प्रवेश के लिए रजिस्ट्रेशन का 12 अगस्त को अंतिम दिन था। 14 अगस्त तक ऑनलाइन दस्तावेज सत्यापन का दिन था। अलॉटमेंट की पहली सूची 20 अगस्त को जारी होगी। 25 अगस्त तक छात्रों को संबंधित कॉलेज में फीस जमा करना होगी। इसके बाद 28 अगस्त से 3 सितंबर तक दूसरे चरण के रजिस्ट्रेशन होंगे।





 
कम से कम एक डोज अनिवार्य .....
पोस्ट ग्रेजुएशन-पीजी कोर्स में प्रवेश की पहली अलॉटमेंट सूची 14 अगस्त को जारी हुयी। 19 अगस्त तक ऑनलाइन फीस जमा करना होगी। कॉलेजों में 1 सितंबर से नया सत्र ऑफलाइन शुरू करने की तैयारी है। कॉलेज में उसी छात्र को एंट्री दी जाएगी जिसे वैक्सीन के दोनों डोज लग चुके हैं। हालांकि यह बात भी रखी गई कि कम से कम एक डोज अनिवार्य होना चाहिए। 50 फीसदी छात्रों को उपस्थिति दी जाएगी या पूरी क्षमता से,इसे लेकर गाइडलाइन बनाई जा रही।




वैक्सीन नहीं लगी,वे  टीचिंग स्टाफ 1 सितंबर से कॉलेज नहीं आ सकेंगे.....





जिन कर्मचारियों और टीचिंग स्टाफ  को अब तक वैक्सीन नहीं लगी,वे 1 सितंबर से कॉलेज नहीं आ सकेंगे। विभाग ने शिक्षक-कर्मचारी के सौ फीसदी वैक्सीनेशन कराने के निर्देश दिए हैं। विभाग ने ऑनलाइन प्रवेश की गाइडलाइन में 1 सितंबर से कॉलेजों में नया सत्र शुरू करने की बात कही थी। अक्टूबर में छात्रसंघ का गठन होगा,जबकि अक्टूबर में ही वार्षिक उत्सव होंगे।






हर संस्थान को एक गांव लेना होगा गोद......
उच्च शिक्षा विभाग की बैठक के दौरान एक अहम निर्णय यह भी हुआ कि सभी शासकीय,अनुदान प्राप्त और निजी कॉलेजों को एक गांव गोद लेना होगा। उसके बारे में विस्तृत रिपोर्ट 24 घंटे में उच्च शिक्षा विभाग को देना होगी।






ओपन बुक में शामिल नहीं हो सके विद्यार्थियों की होगी विशेष परीक्षा.......
प्रदेश के कॉलेजों में पढऩे वाले ऐसे छात्र,जो कोरोना की वजह से ओपन बुक परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए थे, उनके लिए अब विशेष परीक्षा आयोजित की जाएगी। यह परीक्षा इसी महीने होगी और इसका परिणाम भी जल्द घोषित कर दिया जाएगा। उच्च शिक्षा विभाग ने इस संबंध में सभी विश्वविद्यालयों के कुलपति और कॉलेज के प्राचार्यों को निर्देश जारी कर दिए हैं। यूजी के प्रथम,द्वितीय और अंतिम वर्ष व पीजी के दूसरे और चौथे सेमेस्टर के छात्र इस परीक्षा में शामिल होंगे। परीक्षा देने से वंचित रह गए छात्रों को एक बार फिर विशेष मौका मिलने से उनका साल बर्बाद होने से बच जाएगा। परीक्षा देने के बाद वे अगली कक्षा व आगे के पाठ्यक्रम में प्रवेश ले सकेंगे। विवि इन छात्रों के लिए परीक्षा कार्यक्रम अलग से जारी करेंगे।



Share To:

Post A Comment: