धार~सड़क पर प्रसव शेल्टरहोम भेजा पशु जच्चा-बच्चा ~~

पशुपालक इन स्थितियों में भी छोड़ देते हैं सड़कों पर, पीपुल्स फॉर एनिमल्स संस्था से जुड़े लोगों ने पहुंचाई मदद ~~

धार ( डाँ. अशोक शास्त्री )

सड़क पर महिला का प्रसव हो जाए तो व्यवस्थाओं पर सवाल खड़े हो जाते हैं। पशुओं के सड़क पर प्रसव को लेकर जिम्मेदारों से सवाल भी नहीं पूछे जाते हैं। कुछ ऐसा ही वाक्या शनिवार को शहर की प्रकाश नगर कॉलोनी में घटित हुआ। पशुपालक ने गर्भावस्था में ही गाय को सड़कों पर आवारा छोड़ दिया था। शनिवार की तेज बारिश के दौरान गाय ने सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया। चारों आर खून फैला था और नवजात बच्चे की स्थिति को समझने के लिए गाय उसे चाटकर सहला रही थी। मामले की जानकारी जागरूक नागरिकों द्वारा पीपुल्स फॉर एनिमल्स से जुड़े प्रसुल लिम्बोफिया और विजया शर्मा को दी। यह संस्था शहर में आवारा पशुओं के स्वास्थ्य की देखरेख और मुसीबत के दौरान उनकी सहायता के लिए काम करती है। संस्था के सदस्यों को नगरपालिका का भरपूर सहयोग मिलता है। शनिवार को सदस्यों को सूचना मिली और उन्होंने नगरपालिका की टीम बद्री फकीरा और अशोक परमार की मदद से पशु जच्चा और बच्चा को शेल्टर होम पहुंचाया है। इस तरह के फोटो छापना नैतिक दृष्टि से ठीक नहीं है, लेकिन कब तक हम इस तरह के चित्रों से अपनी नजरों को छूपाते रहेंगे। इनसे बचना है तो जानवरों के प्रति संवेदनशीलता पशुपालकों और आम लोगों को लाना होगी।
तय हो पालक की जिम्मेदारी
सड़क पर बछड़े को जन्म देने वाली गाय के कान पर टेग बैच लगा है। इससे इसके मालिक की पहचान की जा रही है। एक बार फिर गाय और अन्य पशुओं को पालने वाले पालकों की जिम्मेदारी पर सवाल उठने लगे है। सड़क पर इस स्थिति में पशुओं को छोड़ना, पशु पकड़ने पर दंड भरकर छूट जाना ही काफी नहीं है। इन स्थितियों के लिए पशु पालकों की जिम्मेदारी भी तय होना चाहिए


Share To:

Post A Comment: