धार ,~ वन मंत्री कुंवर विजय शाह की अध्यक्षता में वृत्त स्तरीय समीक्षा बैठक आयोजन ~~

( धार से डाँ. अशोक शास्त्री )

धार , वन मंत्री कुंवर विजय शाह की अध्यक्षता में वृत्त स्तरीय समीक्षा बैठक आयोजन धार में किया गया।  बैठक में सुनील अग्रवाल, प्रधान मुख्य वन संरक्षक (केम्पा ), सत्यानंद मुख्य कार्यपालन अधिकारी ( ईको टूरिज्यम बोर्ड मध्य प्रदेश), भागवत, प्रबंध संचालक, म.प्र. राज्य लघु वनोपज संघ, बी. एस. अन्नेगिरी, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक (कार्य आयोजना ), एच. एस. मोहन्ता, मुख्य वन संरक्षक इन्दौर, फुलझेले मुख्य वन संरक्षक (सामाजिक वानिकी वृत्त, इन्दौर), आलोक कुमार सिंह, कलेक्टर एवं इन्दौर, धार, झाबुआ एवं अलिराजपुर की वन मंडल अधिकारी, उप वन मंडल अधिकारी तथा वन परिक्षेत्र अधिकारी उपस्थित रहे।
     मंत्री श्री शाह के समक्ष वन मंडल धार की सरंचना, प्रशासनिक व्यवस्था एवं कार्यो की जानकारी का प्रस्तुतीकरण वन मंडल अधिकारी श्री अक्षय राठौर द्वारा किया गया। जिसमें वन मंडल अंतर्गत खरमोर अभ्यारण्य सरदारपुर, डायनासौर जीवाश्म राष्ट्रीय उद्यान बाग, वृक्षारोपण तथा बीज रोपण की जानकारी दी गई।
      बैठक में मंत्री द्वारा वृक्षारोपण की सफलता का प्रतिशत 30 से बढ़ाकर 50 प्रतिशत करने का प्रस्ताव रखा, जिसमें क्षेत्रीय वन अमले से सुझाव प्रस्तुत करने के निर्देश दिये । इसी परिप्रेक्ष्य में वन समितियों के माध्यम से प्रत्येक जिले में वृक्षारोपण का एक पयलेट प्रोजेक्ट तैयार करने का कहा। जिसका कार्बन क्रेडिट संबंधित वन समिति को मिलेगा। इस प्रोजेक्ट में वृक्षारोपण की मुख्य प्रजातियों के बीच में औषधीय पौधे, सब्जी आदि का रोपण किया जावे, जिससे कि समिति को रखरखाव हेतु लगातार धन अर्जित हो सके। ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक घर में कद्दू की पैदावार को प्रोत्साहित करने हेतु स्थानीय अमले को प्रेरित किया। परिक्षेत्र अधिकारी अपने अधिनस्थ बीटगार्ड की प्रति सप्ताह बैठक कर उनसे नवाचार के प्रस्ताव प्राप्त कर चयनित दो प्रस्तावों को वन मंडल अधिकारी को भेजेगें, वन मंडल अधिकारी प्रत्येक परिक्षेत्र से प्राप्त प्रस्ताव में से चयनित प्रस्ताव को मुख्य वन संरक्षक को प्रेषित करें। इस प्रकार माननीय मुख्य मंत्री तक समस्त जिलों से 6 प्रस्ताव प्राप्त होना चाहिए। जलाऊ लकड़ी की खपत कम करने की दिशा में वैकल्पिक उपायों के नवाचार भी प्रस्तुत किये जाये। वन मंडल अधिकारी एक वर्ष में एक लाख तक के एक नवाचार प्रयोग को अमल में लाये । 1 लाख से अधिक के प्रस्तावों का अनुमोदन संबंधित मुख्य वन संरक्षक करेंगे। माह में एक वार माननीय वन मंत्री जी की विडियों कांफ्रेसिंग में परिक्षेत्र अधिकारी स्तर तक के अधिकारी उपस्थित रहें। वन क्षेत्र एवं राजस्व क्षेत्र में वन समिति को बीज उत्पादन हेतु जमीन लीज पर देने का सुझाब रखा गया। साथ ही बीज से वृक्ष तैयार करने हेतु बीजवाला बिजीटिंग कार्ड तैयार करने का सुझाब दिया। धार जिले के एक गांव नवादपुरा का जिक्र करते हुए आत्मनिर्भर गांव की संकल्पना को साकार करने हेतु मार्गदर्शन दिया। मांडव में रानी रूपमती महल से नर्मदा दर्शन को ध्यान में रखते हुए ऊँचे स्थान पर टावर एवं दूरबीन स्थापित कर पयर्टकों को नर्मदा नदी, तारे एवं प्राकृतिक सौदर्न्स के दर्शन के साथ पयर्टन को बढ़ावा देने की दिशा में कार्य करने को कहा।


Share To:

Post A Comment: