बड़वानी~ पारिवारिक विवाद और सामाजिक बहिष्कार की शिकार~~

महिलाओं और बच्चों को परामर्श केंद्र में दी जा रही है काउंसलिंग की सुविधा~~

103 बिछडे परिवार को मिलाया ~~

वर्ष 2021 में मिले  प्राप्त आवेदन 220,आपसी समझौते 103,कानूनी सलाह विधिक सहायता 83,स्वैच्छा से अलगाव 10, नस्ति 36 है।मौखिक रूप से 12 प्राप्त।

परिवार परामर्श केंद्र प्रभारी एएसआई रेखा यादव  ने बताया ऐसे परिवार जो टूटने की कगार पर थे उन परिवारों को सफल परामर्श देकर पुनः घर बसाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है परिवार परामर्श केंद्र/ ऊर्जा महिला डेस्क थाना बड़वानी। पारिवारिक विवाद, पति-पत्नी के आपसी मनमुटाव, चरित्र शंका,  पति द्वारा शराब पीकर मारपीट, आर्थिक तंगी , मोबाइल से भी कई परिवारों में विघटन ,आत्महत्या करने जा रही महिलाओं को समझाकर जान बचाकर, बिछड़े परिवारों को मिलाया। पैरालिसिस से परेशान की मदद ,  अलग हुए दंपत्ति को मिलाना, महिलाओं की स्थिति को सुधारने जागरूकता लाने  के साथ ही कई मामलों में सुलह कराने , वैवाहिक मामलों को न्यायालय के बाहर निपटाने का प्रयास भी बखूबी निभा रहा है परिवार परामर्श केंद्र ।समाज कल्याण की सभी गतिविधियों , शिक्षा पर जोर , पिछड़े जनजातीय क्षेत्र बड़वानी में परित्यक्त महिलाओं, विपत्ति से गिरी महिलाओं की मदद,

पत्नी के मायके से नहीं आने पर पति भी करते हैं आवेदन महिलाओं की नहीं बल्कि पुरुषों की भी सुनी जाती है
एंड्रॉयड फोन से कई बिगड़े हुए घरों को पुनः बसाया । शादी के बाद पति पर अधिकतर अलग रहने का दबाव बनाती है महिलाएं , सास-ससुर के साथ नहीं रहना चाहती तो परिवार के दोनों पक्षों को बुलाकर काउंसलिंग कर सामंजस्य बनाकर साथ चलने व मामला न बिगाड़ने की समझाइश दी गई। कई माता-पिता द्वारा बालिकाओं की पढ़ाई छुड़वा देने जैसे प्रकरण , बाल विवाह भी रुकवाया, पारिवारिक माहौल में परिवार परामर्श केंद्र में महिलाओं को न्याय दिलाया जाता है। महिलाएं थाने के भय से दूर पारिवारिक वातावरण पाकर उनकी समस्या खुलकर बताती हैं ।उनकी समस्या का निराकरण कर उनकी परेशानियों को दूर किया जाता है, नाबालिक बालिकाएं जो कि आवेश में गुस्से में घर छोड़ देती है उनकी भी काउंसलिंग कर घर पहुंचाया गया ।कई गर्भवती महिलाएं की मदद।

कोविड-19 के दौरान विभिन्न तरह से परिवार परामर्श केंद्र  के द्वारा सहायता प्रदान की गई ।रोको टोको अभियान चलाया गया, मास्क वितरित किए गए, सैनिटाइजर वितरित किये गये, वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित किया।  कई बाल विवाह रुकवाया गए नाबालिगों की काउंसलिंग कर उन्हें मार्गदर्शन दिया गया ।महिलाओं के सम्मान के कार्यक्रम में भी विशेष सहभागिता निभाई गई, यातायात नियमों का प्रचार प्रसार किया गया ,घरेलू हिंसा, पॉक्सो एक्ट अधिनियम ,विकलांगों के अधिकार, वृद्धजन अधिनियम की जानकारियां देकर सभी को न्याय दिलाया गया ।पर्यावरण को बढ़ावा देने हेतु वृक्षारोपण का आयोजन भी किया गया। मानसिक रूप से विक्षिप्त महिलाओं का उपचार भी कराया गया साथ ही उन्हें मनो चिकित्सालय इंदौर भी भेजा

श्रीमती सपना पति देवी सिंह ,जाति बारेला, निवासी दानोंद तहसील राजपुर जिला बड़वानी के द्वारा आत्महत्या का प्रयास करने नर्मदा पुल पर जा रही थी उसे वहां से लेकर आए , उसकी जान बचाई, साथ ही उसे काउंसलिंग कर घर भिजवाया , पति के सुपुर्द किया ।उसकी समस्या थी कि पति द्वारा घर से निकाल देने व तीन माह की दूध मुही बेटी को लेकर में कहां जाऊं ?पति के द्वारा मारपीट की जाती है , मेरे साथ बुरा बर्ताव किया जाता है तो मैं कहां जाऊं? इस पर परिवार परामर्श केंद्र की प्रभारी एएसआई रेखा यादव ,काउंसलर श्रीमती अनीता चोयल के द्वारा त्वरित कार्रवाई कर उसे न्याय दिलाया वह घर पहुंचाया गया।


परिवार परामर्श केंद्र में विघटित परिवारों को मिलाने में पुलिस अधीक्षक श्री दीपक कुमार शुक्ला,  जिला न्यायाधीश महोदय श्री राकेश कुमार सोनी ,अपर कलेक्टर श्रीमती रेखा पंकज राठौड़, एडिशनल एसपी, डीएसपी, एसडीओपी , थाना प्रभारी श्री शंकर सिंह रघुवंशी,का सहयोग मिलता है ।
परिवार परामर्श केंद्र की प्रभारी एएसआई रेखा यादव के द्वारा
टीम भावना से परिवार को जोड़ने का कार्य परिवार परामर्श केंद्र द्वारा किया जाता है ।जिसमें काउंसलर श्रीमती अनीता चोयल की महत्ती भूमिका रहती है। इनके द्वारा इस वर्ष  80 महिलाओं को विधिक सहायता दिलाई गई ।साथ ही बचपन बचाओ अभियान मे बालिकाओं महिलाओं गुमशुदा को ढूंढने में सहयोग किया गया।
परिवार परामर्श केंद्र में हेड साहब आशा डुडवे ,आरक्षक गीता कनेश,  जमुना बघेल का विशेष सहयोग रहा। इस उत्कृष्ट कार्य हेतु श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा पुरी टीम को नगद पुरस्कार व गणतंत्र दिवस पर पुरस्कृत किया जायेगा।


Share To:

Post A Comment: