बड़वानी~वैक्सीनेशन में लापरवाही पर 20 खण्ड स्तरीय अधिकारियों को मिला शोकाज नोटिस ~~

बड़वानी /कलेक्टर श्री शिवराजसिंह वर्मा ने जिले में चल रहे वैक्सीनेशन कार्य में लापरवाही प्रदर्शित करने एवं उच्च अधिकारियों के निर्देशों का पालन न करते हुए निर्धारित वैक्सीनेशन के लक्ष्य को प्राप्त न करने वाले 20 खण्ड स्तरीय अधिकारियों को शोकाज नोटिस जारी कर, समक्ष में उपस्थित होकर जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिये है। अन्यथा की स्थिति में मध्यप्रदेश सिविल सेवा (आचरण) अधिनियम 1965 के नियम 3 एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों के अनुसार अनुशासनात्मक कार्यवाही करने की चेतावनी दी है।
कलेक्टर कार्यालय से प्राप्त जानकारी अनुसार विकासखण्ड स्त्रोत समन्वयक सेंधवा राजाराम भालसे, निवाली बालसिंह चैहान, पाटी प्रफुल्ल पुरोहित, पानसेमल संतोष पंवार, राजपुर राकेश गुप्ता, ठीकरी राजेश मालवीय, बड़वानी दिनेश खरते, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी पाटी श्रीमती राजश्री पंवार, सेध्ंावा लोकेन्द्र कुमार सोहनी, निवाली पीसी शर्मा, पानसेमल अरूण मिश्रा, ठीकरी केसी सुनहरी, राजपुर ओमप्रकाश अग्रवाल, बड़वानी आशाराम मुजाल्दे, महिला बाल विकास विभाग की सेक्टर पर्यवेक्षक पखाल्या सुश्री रेवा बघेल, गंधावल श्रीमती कांति आर्य, लिंबी श्रीमती रजनी शर्मा, बोकराटा श्रीमती सुनंदा गुलवाने, ओसाड़ा श्रीमती बसंती भिड़े, पाटी सुश्री सुमन चैहान को अपने प्रभार के क्षेत्र में 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के शतप्रतिशत बच्चों का वैक्सीनेशन न होने से कलेक्टर ने उन्हे शोकाज नोटिस जारी कर अपने समक्ष सुनवाई हेतु उपस्थित होने के आदेश दिये है।
ज्ञातव्य है कि कलेक्टर श्री शिवराजसिंह वर्मा ने जिले में 15 से 18 वर्ष के आंकलित 87 हजार बच्चों का शतप्रतिशत वैक्सीनेशन कराने हेतु शिक्षा विभाग, महिला बाल विकास विभाग के खण्ड स्तरीय एवं सेक्टर स्तरीय अधिकारियों को निर्देशित किया था कि वे अपने प्रभार के सभी स्कूलों में 31 दिसम्बर 2007 के पहले के जन्मे बच्चों का वैक्सीनेशन करवायेंगे। इसके लिए वे किसी कक्षा विशेष को आधार न मानते हुए उनके जन्मदिवस को आधार बनायेंगे। किंतु कलेक्टर के इस आदेश पर उक्त अधिकारियों ने कोई कार्यवाही नही की। इसका परीक्षण कलेक्टर ने बड़वानी के माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 3 के निरीक्षण के दौरान स्वयं देखा था। जब उन्होने इस स्कूल के 25 से अधिक बच्चों को अपने समक्ष वैक्सीनेशन करवाया था। जबकि कुछ ओर बच्चे भी आयु के अनुसार टीका हेतु पात्र थे, किंतु वे उस दिन अनुपस्थित थे।


Share To:

Post A Comment: