बाकानेर~पिताजी कीअधूरी इच्छाओं को पूरा करने पत्नी संग नर्मदा परिक्रमा पर निकले भाई कीर्ति राज~~

बाकानेर ~जलखेड़ा -बाकानेर निवासी समाजसेवी मांगीलाल जी सेन अपने जीवनकाल में नर्मदा परिक्रमा करना चाहते थे लेकिन कहते हैं ना ईश्वर की मर्जी के बिना कुछ भी संभव नही,होनी को कौन टाल सकता है, अल्प बीमारी में मांगीलाल जी स्वर्ग सिधार गए।
पिताजी की अधूरी इच्छाओं को पूरा करने का प्रण उनके सुपुत्र ने किया 18 दिसंबर को मांगीलाल जी के छोटे बेटे कीर्तिराज ने अर्धांगिनी अलका सेन को साथ मोटरसाइकिल से नर्मदा परिक्रमा की शुरुआत ओंकारेश्वर से की। महाराष्ट्र के प्रकाशा, विमलेश्वर, रत्नासागर पार कर  गुजरात के पोईचा, पावागढ़ , उत्तर तट पर अलीराजपुर, कुक्षी,कोटेश्वर,सीता माता मंदिर,नेमावर जबलपुर होकर लगभग 2700 किलोमीटर की यात्रा कर मैया के उदगम अमरकंटक पहुंच गए है इनका मानना है कि  लगभग 3500 किलोमीटर की यात्रा यदि  वाहन, स्वास्थ्य, और मौसम अनुकूल रहा तो 15 दिनों में पूरी कर 2 जनवरी को पिताजी मांगीलाल जी की पुण्यतिथि घर  बाकानेरआकर मनावेंगे । यात्रा के दौरान जगह जगह पर समाजजनों द्वारा भावभीना स्वागत किया जा रहा है उक्त जानकारी वरिष्ठ समाजसेवी विश्व जीतसेन नदी


Share To:

Post A Comment: