बाकानेर~विश्व हिन्दी दिवस एवं राष्ट्रीय हिन्दी दिवस मैं अंतर एवं समानता है ~सैयद रिजवान अली~~

बाकानेर सैयद अखलाक अली~~

प्रेस क्लब मनावर क्षेत्र की एकमात्र पंजीकृत मान्यता प्राप्त पत्रकारों की संस्था द्वारा आयोजित विश्व हिंदी दिवस पर कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार सैयद रिजवान ने कहा बहुत से लोगों को विश्व हिन्दी दिवस (10 जनवरी) एवं राष्ट्रीय हिन्दी दिवस (14 सितंबर) के बीच कन्फ्यूज़न हो रहा है। दोनों ही दिवसों को मनाने के पीछे मुख्य उद्देश्य, हिन्दी को बढ़ावा देना और दुनिया भर में इसका प्रचार -प्रसार करना ही रहता हैं, परन्तु इनका इतिहास अलग-अलग है।
वास्तव में, आज ही के दिन 1975 में पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन हुआ था, "विश्व हिन्दी दिवस" उस सम्मेलन की वर्षगांठ का प्रतीक है, जिसका उद्घाटन भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने नागपुर में किया था।
जबकि 14 सितम्बर 1949 में हिन्दी को भारत की आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में अपनाया गया था और यह दिन हिन्दी के पुरोधा व्यौहार राजेन्द्र सिंह का 50-वां जन्मदिन था, जिन्होंने हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए बहुत लंबा संघर्ष किया था।
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक बधाई। इस अवसर पर प्रेस क्लब अध्यक्ष पन्नालाल गहलोत ने कहां मनावर बाकानेर गण पुर सिंघाना उमरबन कालीबावड़ी अजंदा मिर्जापुर जोतपुर साथ ही मनावर तहसील के सभी पत्रकारों का निशुल्क दुर्घटना बीमा  500000 लाख का किया जा रहा है प्रेस क्लब से जुड़कर लाभ लें। सोहन काग शेख शाहनवाज गौतमकेवट ने सभी को टीकाकरण स्वयं लगवाने और दूसरों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करने के लिए कहा। इस अवसर पर जय प्रकाश सेन डॉ कविता राम शर्मा परिंदा राहुल सिंह तोमर आकाश हममण कुलदीप सिंह चौहान जितेंद्र सोलंकी इकबाल कुरैशी फारुख खान विश्वजीत सेन मोहम्मद अयाज खान लोकेंद्र जाधव हरिओम मालवीय उपस्थित थे। कार्यक्रम सीमित मात्रा में करोना गाइडलाइन का पालन करते हुए सेनीटाइजर 2 गज दूरी मास्क है जरूरी नियमों का पालन करते हुए किया गया इस अवसर पर अतिथियो का पुष्पमाला शाल श्रीफल प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया परिचय सैयद अखलाक अली कलीम खान विश्वदीप मिश्रा ने कराया संचालन योगेश जख्मी राजेंद्र मूवैल ने किया आभार निलेश जैन अनिल जैन दादा ने माना।


Share To:

Post A Comment: