भोपाल~एकता एवं भाईचारा” विषय पर आयोजित ऑनलाइन विचार एवं काव्य गोष्ठी संपन्न~~

दे रहा हूं सबको मोहब्बत पयाम काश इंसान को कोई इंसान बना दे~ सैयद खालिद केस~~

भोपाल  सैयद रिजवानअली~~

एकता हिन्दुस्तान की शक्ति है जो लोग नफरतों से फिज़ा बिगाड़ रहे हैं उनको एकता, भाईचारा कायम करके ही रोका जा सकता है।यह उद्गार प्रेस क्लब ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट्स के तत्वाधान में मकर संक्रांति के अवसर पर “एकता एवं भाईचारा” विषय पर आयोजित ऑनलाइन विचार एवं काव्य गोष्ठी में श्री रविन्द्र अरोरा (मुम्बई) ने अपने मुख्य आतिथ्य उद्बोधन में व्यक्त किए।

संगठन की राष्ट्रीय सचिव एवं साहित्यिक व सांस्कृतिक विभाग की राष्ट्रीय संयोजिका श्रीमति शशि दीप के सफल संचालन में संपन्न इस ऑनलाइन विचार एव काव्य गोष्ठी की अध्यक्षता संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद खालिद कैस ने की तथा विशिष्ट अतिथि श्री राघवेन्द्र दुबे (छग) रहे।

इस विचार एवं काव्य गोष्ठी का शुभारंभ शशि दीप द्वारा माँ सरस्वती मंत्रोपचारण से हुआ उसके पश्चात वरिष्ठ साहित्यकार राजेश कुमार सोनार (बिलासपुर छ.ग.), डॉ मकसूद अहमद, शायर/ प्रशिक्षक/ प्रेरक (खैरागढ़ छ्.ग.), कल्पना कौशिक लेखिका (सरगांव मुंगेली छ्.ग.), रेखा साह (बलिया उ.प्र . ), रेणु बाजपेयी वरिष्ठ साहित्यकार (बिलासपुर छ.ग. )डॉ प्रीति प्रसाद वरिष्ठ साहित्यकार/समाजसेवी ( बिलासपुर/ मुम्बई), फहद फरिश्ता नोमानी, लेखक/ कवि (वाशी मुम्बई), सीता प्रसाद अंग्रेजी प्रशिक्षक द्विभाषी लेखिका गुडगांव हरियाणा, ने अपनी सुमधुर एवं प्रभावशाली रचनाओं के माध्यम से देश की एकता भाईचारे पर बल दिया।

इस अवसर पर सैयद खालिद कैस ने अपने उदबोधन के साथ कहा कि

“दे रहा हूं सभी को मोहब्बत का प्याम,
काश इंसान को इंसान बना दे कोई”

देश में एकता अखंडता और भाईचारा हमारे पूर्वजों के समय से ही कायम है,उसकी रक्षा हमारा दायित्व है। देश में नफरतों के सौदागरों की मंशा को समूल नष्ट करना ही हमारा दायित्व है। हम अपने मुल्क की संस्कृति,सभ्यता को कायम रखेंगे। नई पीढ़ी के ऊपर बहुत बड़ा दायित्व है देश की अस्मिता की रक्षा करना।

संगठन की राष्ट्रीय सचिव एवं साहित्यिक एवं सांस्कृतिक विभाग की राष्ट्रीय संयोजिका श्रीमति शशि दीप के संचालन में संपन्न इस ऑनलाइन विचार एव काव्य गोष्ठी के समापन भाषण में संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद खालिद कैस ने उपस्थित अथितियों,कविगण, शायरों, कवयित्रीयों का आभार व्यक्त किया तथा घोषणा की कि गणतंत्र दिवस के अवसर पर देश के साहित्यकारों,लेखकों,कवियों को उनके योगदान के लिए सम्मानित किया जाएगा।


Share To:

Post A Comment: