झाबुआ~उम्मीदवारों की जमानत राशि होगी वापस,मार्च से पहले चुनाव हुए तो नोड्यूज आएगा काम .....इसके बाद हो जाएगा खत्म~~


मंगलवार देर शाम आयोग ने चुनाव रद्द करने की घोषणा की गई थी ,कुछ घंटों पहले चल रही थी ईवीएम सीलिंग~~





झाबुआसंजय जैन~~

प्रदेश में होने वाले पंचायत चुनाव को लेकर चल रही चर्चाओं पर मंगलवार की देर शाम विराम लग गया था। इसके कुछ घंटे पहले तक पहले चरण के मतदान के लिए वोटिंग मशीनें के लिए सीलिंग व मतपत्र आदि छपाई का काम चल रहा था। चुनाव फिलहाल नहीं होंगे जिससे जिले में पंचायत चुनाव के दंगल में कूदे  हजारों उम्मीदवारों की उम्मीदों पर पानी फिर गया है। ओबीसी आरक्षण को लेकर चले हुए विवाद के चलते मंगलवार की शाम उक्त चुनाव की कार्रवाई निरस्त कर दी गई।




प्रत्याशियों ने सरकार का लाखों बकाया चुका दिया....
आयोग के आदेश के अनुसार नामांकन फॉर्म दाखिल करने वाले उम्मीदवारों को चुनाव निरस्त होने पर उनकी जमानत राशि वापस की जाएगी। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की घोषणा 4 दिसंबर को हुई थी। गांव की सरकार में शामिल होने के लिए प्रत्याशियों ने सरकार का लाखों बकाया चुका दिया। इसके बाद चुनाव प्रचार में भी लाखों रुपया खर्च कर दिया। वहीं अचानक चुनाव प्रक्रिया निरस्त कर दिए जाने से चुनाव मैदान में उतरे प्रत्याशियों के दिलों की धड़कनें तेज हो गईं। 




जमानत राशि  को वापस की जाएगी





चुनाव निरस्त होने पर जमानत राशि प्रत्याशियों को वापस की जाएगी। वहीं नोड्यूज 6 महीने तक मान्य होता है। यदि चुनाव वित्तीय वर्ष मार्च 2022 के बाद होते हैं तो पुन: प्रत्याशियों को नोड्यूज कराना होगा। इसके उपरांत जो भी आयोग के निर्देश होंगे उसके हिसाब से ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।






छप चुके मत-पत्र व प्रचार सामग्री बेकार.....
चुनाव निरस्त होने की अधिकृत घोषणा नहीं आने तक प्रत्याशियों ने प्रचार सामग्री तैयार कराने पर जहां लाखों रुपए खर्च कर दिया वहीं प्रशासन ने भी मतपत्र समेत कई तरह की स्टेशनरी आदि छपवाने आदि पर लाखों रुपए खर्च कर दिए थे। अचानक चुनाव निरस्त होने से अब यह सभी सामग्री बेकार हो गई है। बाद में भी यह किसी तरह काम में नहीं आएगी। इस चुनाव में खर्च की कोई सीमा तय नहीं होने से कई प्रत्याशियों ने वैध व अवैध तरीके से लाखों रुपए खर्च कर उत्साहित हो रहे थे लेकिन अब वे नाखुश हो गए है।






निर्धारित प्रारूप में आवेदन करना होगा........
निर्धारित प्रारूप में आवेदन करने व चुनाव निरस्त करने आयोग के निर्देश आ गए हैं। अभ्यर्थियों को जमानत राशि भी तत्काल देने के निर्देश हैं। इसके लिए जिपं के प्रत्याशी कलेक्टोरेट,जनपद सदस्य के संबंधित विकासखंड मुख्यालय के एसडीएम और पंच व सरपंच के अभ्यर्थी संबंधित तहसीलदार के यहां निर्धारित प्रारूप में आवेदन करें। इसके साथ कार्यालय से दी गई रसीद भी लगाएं। इसके बाद उन्हें राशि लौटा दी जाएगी।




Share To:

Post A Comment: