झाबुआ~हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट से वंचित 50 लाख वाहन-शासन स्तर पर होना है निर्णय~~

मध्यप्रदेश परिवहन विभागलिंक उत्सव कंपनी में नहीं बन पा रही सहमति~~


झाबुआसंजय जैन~~

परिवहन मुख्यालय मध्य प्रदेश में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट का वर्क ऑर्डर जारी नहीं पा रहा है। परिवहन विभाग व लिंक उत्सव के बीच हुए विवाद के कारण झाबुआ सहित मध्य प्रदेश के 50 लाख से अधिक पुराने वाहन बिना हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के चल रहे हैं। सबसे ज्यादा दिक्कत उन वाहनों को है जो दिल्ली-एनसीआर में वाहन चेकिंग के दौरान परेशान होते हैं। प्रदेश में रजिस्टर्ड बिना हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट वाहन दिल्ली एनसीआर में जुर्माना चुका रहे हैं या फिर पुलिस चेकिंग डर से क्षेत्र विशेष में गाड़ी ले जाने से कतराते हैं। जिस फर्म को प्रदेश में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट का काम करना है उसका वर्क-ऑर्डर चार माह से कानूनी राय में फंसा हुआ है।






नवंबर 2021 में शुरू होना था काम......
परिवहन विभाग ने वर्ष 2012 में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट का वर्क आर्डर लिंक उत्सव को दिया था। शिकायतों के बाद 2014 में टेंडर निरस्त कर दिया। लंबी कानूनी लड़ाई के बाद निर्णय लिंक उत्सव के पक्ष में हुआ लेकिन इस विवाद में 50 लाख से अधिक वाहन मालिकों का हाई सिक्योरिटी का शुल्क फंस गया। परिवहन आयुक्त कार्यालय ने अक्टूबर 2021 में महाधिवक्ता की राय लेकर प्रमुख सचिव परिवहन विभाग के मार्गदर्शन मांगा। तब से आयुक्त कार्यालय व प्रमुख सचिव कार्यालय के बीच फाइल अटकी हुई है।






हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट का काम कब शुरू होगा.....?
अभी इस मामले में शासन स्तर पर निर्णय होना है। इसमें नई दरों के साथ कई मुद्दे शामिल हैं। दिल्ली या अन्य राज्यों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट न होने से प्रदेश के वाहन परेशान होते हैं,जो वाहन वर्ष 2014 से 2019 के बीच के हैं उन्हीं के साथ ये समस्या है। 2019 में वाहन निर्माता कंपनी व डीलर को जिम्मेदारी दिए जाने के बाद यह दिक्कत दूर हो गई है।






दर पर होना है निर्णय.....
लिंक उत्सव 2012 में प्रति दो पहिया वाहन पर 110 तथा प्रति चार पहिया वाहन पर 315 रुपए में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगा रही थी। पांच साल बाद मतलब 2017 में दरों में वृद्धि होनी था। उसके बाद यदि फिर पांच साल बाद मतलब 2022 में रेट रिवाइज होना। अब सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि नई रेट कितनी होनी चाहिए और जिनका पैसा जमा है उन्हें पुरानी रेट में ही प्लेट लगाना या बढ़ी हुई रेट का शुल्क लेना है,इन सब पर स्पष्ट सहमति के अभाव में काम शुरू नहीं हो पा रहा है। इसके अलावा एक समस्या है और कि कंपनी को फिर से प्रत्येक हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट का सेटअप लगाना पड़ेगा।






क्या है हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट....?
पूरे देश में दो व चार पहिया या अधिक पहिया वाहनों के लिए हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट का पैटर्न एक जैसा है। इसमें वाहन के मालिक के लाइसेंस, चेसिस नंबर व वाहन से जुड़ी सारी जानकारी रहती है। पूरे देश में वाहन के रजिस्ट्रेशन की एक यूनिफॉर्म मतलब एक से डिजाइन वाली यह प्लेट नए व पुराने सभी वाहनों के लिए अनिवार्य है। मध्य प्रदेश में अक्टूबर 2014 से अप्रैल 2019 के बीच रजिस्टर्ड हुए वाहन इन प्लेट से वंचित हैं।




Share To:

Post A Comment: