झाबुआ~महंगाई****निर्माण सामग्री के दाम 25 फीसदी तक बढ़े,पीएम आवास की राशि 7 साल बाद भी 2.50 लाख~~

सीमेंट,सरिया,रेत,ईंट महंगी,2.50 लाख में नहीं बन पा रहा 300 वर्गफीट का मकान-1 हजार 379 आवास स्वीकृत,पूर्ण सिर्फ  400 हो चुके हैं,जबकि 879 आवासों को स्वीकृति का फिलहाल इंतजार~~


झाबुआसंजय जैन~~

सरकार पीएम आवास बनाने के लिए 2.50 लाख रुपए तीन किस्तों में हितग्राहियों को दे रही है जबकि योजना शुरू हुए 7 साल हो गए हैं। इन 7 सालों में सरकार ने आवास की राशि नहीं बढ़ाई है। इस बीच निर्माण सामग्री के दाम इतने बढ़ गए हैं कि जो खर्च पहले 2.50 लाख रुपए था,वह 3.50 लाख रुपए तक आ रहा है।





 
नहीं बना पा रहे भवन हितग्राही किस्तें मिलने के बाद भी .......
साल 2014 में सरकार ने पीएम आवास योजना शुरू की थी। इसमें 2.50 लाख की राशि हितग्राही को तीन किस्तों में जारी की जाती है। बीते सात साल में यह राशि नहीं बढ़ाई गई है जबकि सरिया,सीमेंट,रेत और ईंटों के दामों में 25 फीसदी तक की बढ़ोतरी हो गई है। साल 2021 में ही 4700 रुपए प्रति क्विंटल तक बिक रहा सरिया अब 8400 रुपए प्रति क्विंटल पर पहुंच गया है। इसी तरह सीमेंट के दाम भी 40 रुपए बढ़कर 350 रुपए प्रति बोरी हो गए हैं। 7 हजार रुपए ट्रॉली वाली रेत अब 8 हजार में मिल रही है। एक हजार ईंटों के दाम भी 3 हजार रु.बढ़ गए हैं। इससे पीएम आवास में बनने वाले एक कमरा, किचन और लेट-बाथ में ही अब 3.50 लाख रुपए का खर्च आ रहा है। ऐसे में कई हितग्राही किस्तें मिलने के बाद भी भवन नहीं बना पा रहे हैं।






सरकारी मदद मिलने के बाद भी पूरा नहीं कर पा रहे........
1 हजार 379 आवास स्वीकृत,पूर्ण सिर्फ  400 हो चुके हैं,जबकि 879 आवासों को स्वीकृति का फिलहाल इंतजार है। 1 हजार 379 आवासों में से महज 400 आवास ही पूर्ण हुए है,क्योंकि शासन की ओर से इन्हीं भवनों के हितग्राहियों को तीनों किस्तें जारी हो सकी है। शेष आवास हितग्राही फिलहाल किस्तों का ही इंतजार कर रहे है, किस्तों के इंतजार के साथ ही निर्माण सामग्री पर महंगाई भी लगातार बढ़ती जा रही है। जिसके चलते अब पीएम आवास का सपना भी लोग सरकारी मदद मिलने के बाद भी पूरा नहीं कर पा रहे है।






अतिरिक्त लागत......कर्ज लेकर बना रहे मकान
1-शहर के निवासी ओमप्रकाश मेहर को नगर पालिका से पीएम आवास स्वीकृत किया गया है, इन्हें शासन की ओर से फिलहाल दो किस्तें ही मिली हैं,लेकिन इन्होंने कर्ज लेकर मकान का निर्माण पूरा कर लिया है। ओमप्रकाश के मुताबिक उन्हें पीएम आवास बनाने के लिए 3.50 लाख से ज्यादा खर्च करने पड़े।





 
 2-शहर के राशिद खान ने बताया कि बमुश्किल उनका नाम पीएम आवास सूची में आया। फिर उन्हें दो किस्तें ही मिलीं। मकान की नींव भरने के साथ मकान की कुछ ही दीवारें खड़ी हो पाईं। इसमें दोनों किस्तें खत्म हो गईं। अब गरीबी में वह किसी से कर्ज भी नहीं ले सकते है। ऐसे में फिलहाल मकान को अधूरा छोड़ दिया है। ठेकेदार के मुताबिक अभी मकान बनाने में कम से कम 1.50 लाख रुपए की और जरूरत पड़ेगी।






अब नहीं बनेगा कम राशि में पीएम आवास.......
सरकारी मापदंड के अनुसार 300 वर्ग फीट में शासन हितग्राही को 2.50 लाख रुपए की राशि मकान बनाने दे रहा है लेकिन वर्तमान में सरिया,सीमेंट,रेत और ईंटों के भाव बढ़ गए हैं। अब 300 वर्ग फीट में मकान बनाने के लिए वर्तमान में कम से कम 3.50 लाख की लागत आएगी।
...........अशोक गुप्ता- इंजीनियर




Share To:

Post A Comment: