बड़वानी/राजपुर~ पुलिस ने कट्टे कि नोक पर अज्ञात लूट का, किया पर्दा फास ~~

*अपराध क्र.-* 120/22  *धारा:-* 392 भादवि
*गिरफ्तार आरोपी का नामः-* दीपक पिता श्रवण भीलाला उस 25 वर्ष नि. भींगार फलिया रणगांव रोड़
*फरार आरोपी का नामः-* रितेश पिता चैनसिंग अलावा नि. मंण्डवाड़ा
*लुटा गया मालः-* एक एच.एफ. डिलक्स मो.सा., एक विवो कंपनी का मोबाईल व 80 रुपये नगदी
*जप्ती माल/किमतः-* हिरो एच.एफ. डिलक्स मो.सा. क्र. एम.पी. 10 एम.पी. 4975 एवं एक देशी कट्टा कुल किमती 80,000 रुपये
*घटना का संक्षिप्त विवरणः-* दिनांक 12.03.22 को फरियादी अजय पिता ताराचंद पाटील नि. जलगोन ने थाना हाजीर आकर रिपोर्ट किया कि आज शाम करीब 7.00 बजे में मेरी मोटर साईकिल क्रमांक एम.पी. 10 एम.पी 4975 हिरो एचएफ डीलक्स से मेरे रिश्तेदार को लेने के लिये जलगोन फाटे पर रात करीब 7.45 बजे पहुचकर मेरे रिश्तेदार का इंतजार कर रहा था कि रात्री 8.00 बजे के आसपास राजपुर तरफ से दो लड़के एक लंबा सा एवं एक छोटा लड़का पैदल पैदल मेरे पास आये और छोटे वाले लड़के ने मुझे गन बताकर मेरी मोटर साईकिल की चाबी व मेरे पास के 10 रूपये के 08 नोट कुल 80 रूपये छिन लिये व मेरा वीवो कंपनी का मोबाईल जिसमे जियो कंपनी की सीम भी छिन लिये और मेरी मोटर साईकिल लेकर जुलवानिया तरफ भाग गये फरियादी कि रिपोर्ट पर अपराध क्र. 120/22 धारा 392 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना में
लिया गया।
           मामला लुट का होने से बड़वानी पुलिस अधीक्षक श्री दीपक कुमार शुक्ला ने उसे काफी गंभीरता से लिया एवं राजपुर टी.आई. श्री राजेश यादव को मालमुल्जीम की जल्द से जल्द पतारासी करने के निर्देश दिये गये जिस पर राजपुर टी.आई. श्री राजेश यादव ने पुलिस अधीक्षक बड़वानी के निर्देशन एवं अति. पुलिस अधीक्षक श्री आर.डी. प्रजापति, एस.डी.ओ.पी. श्री पदमसिंह बघेल के मार्गदर्शन में एक टीम गठित कर मुखबिर तंत्र को सक्रिय कर मालमुल्जीम की लगातार पतारासी करते टीम को लुट में दीपक पिता श्रवण भीलाला नि. भींगारा फलिया रणगांव रोड़ का सामिल होने कि मुखबिर सुचना मिलने पर टिम द्वारा दीपक कि पतारासी करते दीपक कि गुजरात सुरत में होना पता चला जो टीम द्वारा गुजरात
पहुंचकर सुरत में दीपक की तलाश कर उसे पकड़कर थाने लेकर आये जिससे लुट के संबंध में पुछताछ करते कभी कुछ कभी
कुछ बताने लगा तथा घटना दिनांक को सुरत में होना बताया जो टीम द्वारा वैज्ञानिक, मनोवैज्ञानिक एवं तकनिकी माध्यम एवं हिकमत अमली से पुछताछ करते उसने अपने भांजे रितेश के साथ मिलकर जुर्म(लुट) करना स्वीकार किया। आरोपी
रितेश कि तलाश की जा रही है।
*तरीका ए वारदातः-* आरोपी से पूछताछ करने पर उसने बताया कि घटना दिनांक को में व मेरा भांजा रितेश पिता चैनसिंग अलावा नि. मंण्डवाड़ा का हम पेदल - पेदल जा रहे थे कि जलगोन फाटा पर एक व्यक्ति अकेला मोटर सायकल पर बैठकर मोबाईल पर बात करते हुये दिखा और हमें खाने पीने के लिये पैसो कि जरुरत थी तो उस व्यक्ति को लुटना हमें आसान लगा इसलिये मेंने व रितेश ने उस व्यक्ति को कट्टा दिखाकर मोटर सायकल व उसका मोबाईल व 80 रुपये छीन लिये तथा मोटर सायकल व मोबाईल लेकर भाग गये
*विशेष भूमिकाः-* निरी. राजेश यादव, उनि वीर बहादुरसिंह चौहान, उनि विमल तिवारी, उनि रितेष खत्री, सउनि
प्रतापसिंह जाधव, सउनि आशिष पंण्डित, प्रआर. बंशीलाल रावत, प्रआर योगेश पाटील, आरक्षक - पंकज निर्मल, कपील
भालेकर, अमीत डोडवा, गेंदालाल, राजकुमार, बलदेव बघेल, अरुण मुजाल्दा


Share To:

Post A Comment: