धार~नपा पहुंचे लोगों ने कहा जुर्माना माफ करें, वैध कनेक्शन लेने को तैयार~~

15-15 हजार के जुर्माने के नोटिस के बाद हड़कम्प, नपा उपाध्यक्ष से की लोगों ने मुलाकात ~~

धार ( डाँ.अशोक शास्त्री )।

शहर में नगरपालिका की ट्यूबवेल लाईन से डायरेक्ट कनेक्शन जोड़कर पानी लेने वालों को 15-15हजार के जुर्माने का नोटिस जारी होने के बाद हड़कम्प मच गया है।  नल कनेक्शन कटने के डर से मंगलवार को करीब 30-40 की संख्या में लोग नगरपालिका कार्यालय पहुंचे थे। कार्यालय में नोटिस धारियों ने नपा उपाध्यक्ष कालीचरण सोनवानिया से मुलाकात की। उपाध्यक्ष श्री सोनवानिया से लोगों ने आर्थिक स्थिति कमजोर होने का हवाला देकर जुर्माने की राशि जमा करने में असमर्थता दिखाई। इसके बाद उपाध्यक्ष ने नगरपालिका सीएमओ निशिकांत शुक्ला से रियायत देने को लेकर चर्चा की। इसके पश्चात सीएमओ ने जुर्माना राशि आधी करने का आश्वासन दिया। हालांकि लोग पूर्ण जुर्माना माफ कराने के लिए आए थे। जिसके कारण विषय का निराकरण नहीं हो पाया।
2700 देकर वैध लेने को तैयार
मंगलवार को नगरपालिका कार्यालय पहुंचे नोटिसधारियों ने कहा कि जुर्माना यदि माफ किया जाता है तो वे नल कनेक्शन लेने का शुल्क 2700 रुपए जमा कराने के लिए तैयार है। इसके पश्चात प्रतिमाह 100 रुपए मासिक बिल भी अदा करेंगे। इसको लेकर उन्होंने करीब आधे घंटे तक नपा उपाध्यक्ष के साथ चर्चा की। उपाध्यक्ष द्वारा की गई चर्चा के बाद जुर्माना राशि 50 प्रतिशत करीब 7500 रुपए लिए जाने का आश्वासन मिला है। लोग यह भी नहीं भरना चाहते है। इधर कई लोगों ने वैध नल कनेक्शन के 2700 रुपए जमा करने में असर्थतता जताई। लोगों का आरोप था कि20-25 साल से पानी भर रहे हैं। अब अचानक बकाया शुल्क राशि के नाम पर इतनी रकम के बिल दे दिए है। क्षेत्र में सभी लोग मजदूरी पेशे से जुड़े हुए हैं। इतनी बड़ी रकम जमा करना संभव नहीं है। इधर जुर्माने में पूर्ण रियायत ना देने की बात सुनकर भाजपा से जुड़े छत्रीपाल क्षेत्र के बाबा नाराज हो गए। उन्होंने कहा है कि ऐसा है तो कनेक्शन काट दो फिर टैंकर से पानी देना पड़ेगा।
लोग बोले हमारे खर्च से डाली लाईन
नपा कार्यालय पहुंचे लोगों ने बताया कि लुनियापुरा क्षेत्र में पानी की जो लाईन डली हुई है वह वर्षों पुरानी है। उसे लोगों ने अपने खर्च से डलवाया है। इसका मेंटनेंस और सुधार कार्य भी लोगों द्वारा ही कराया जाता है। इस पर उपाध्यक्ष द्वारा पेयजल व्यवस्था देखने वाले नपाकर्मी रामा भैय्या को बुलवाया गया। कर्मी ने कहा कि यह पुराना मामला है। मैं 2017 से व्यवस्था देख रहा हूं। अभी तक जो भी काम हुए है वह नगरपालिका ही करवा रही है। कुछ समय पूर्व केबल भी डाली थी। इस तरह आरोप-प्रत्यारोप के बाद इंजीनियर राकेश बैनल को बुलवाया गया। इधर सीएमओ के समक्ष जुर्माने में पूर्ण रियायत की बात उपाध्यक्ष द्वारा रखी गई। इस पर सीएमओ ने इंजीनियर से चर्चा के बाद निर्णय लेने की बात कही। इसके पश्चात लोग लौट गए। उपाध्यक्ष श्री सोनवानिया ने  लोगों से कहा कि कम से कम अपने वैध कनेक्शन के लिए फार्म भर दो।
145 लोगों को दिए है नोटिस
अवैध कनेक्शन से मुफ्त का पानी लेने वाले लोगों में करीब 145 लोगों को नोटिस दिए गए है। इसमें अधिकांश लोग छत्रीपुरा और लुनियापुरा क्षेत्र के रहवासी है। इस क्षेत्र में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोग रहते हैं। इसके अलावा शहर के मध्य क्षेत्र में प्रभावशालियों ने भी बोरिंग से डायरेक्ट कनेक्शन जोड़ रखे है। पहली मर्तबा इस तरह से बगैर शुल्क चुकाए पानी लेने वालों पर जमीनी कार्रवाई हो रही है। 


Share To:

Post A Comment: