रिंगनोद~ चुनावी चुलबुल 20 मै से 11 वार्डो मै महिला होंगी पंच~~

जिन वार्डो से पुरुष कर रहै थे चुनाव लडने की तैय्यारी वहां महिलाओ को सिखने होंगे चुनावी दांव सरपंच बनने की राह भी नही आसान जनता को चुनना है अपना सरपंच~

ईसिलिए पोस्टर पर भैय्या के साथ भाभी जी को भी आना होगा सामने कल से होंगे नामांकन~~

अनुराग डोडिया.रिंगनोद ~~

जमा---------------आचार संहिता लगते ही और चुनाव होने से क्षैत्र मै चुनावी सरगर्मि तेज हो गयी है चौपालो ठीयो दुकानो और गली मोहल्लो मै चुनावी बात चित का दौर शुरु हो चुका है आरक्षण के समीकरण से पिछले चुनाव के बाद से अगली बार पंच सरपंच बनने के सपने सजाने भैय्या ध्यान रखना अरे अपने आने के बाद देखना विकास कहने वालो के सपने या तो टूट से गए या धुंधलाते नजर आ रहै है अब एसे मै जिस वार्ड से एसे पुरुष उम्मिद्वार जिन्हे किसी भी हालत मै चुनाव लडना है उन्हे पुरी मेहनत से भाभी जी को चुनावी दांव और तरीके सिखाने होंगे और वहीं एसे उम्मिद्वार जिन भैय्या जी को तो जनता कुछ कुछ पहचानती भी हो और चुनाव के ईन्तजार मै हाथा जोडी तो की हो  लैकीन भाभी जी का नाम तक जनता को नही पता हो वे क्या करेंगे बहरहाल एसे वार्ड जहां पुर्व से ही महिला पंच स्थापित है उन्हे कुछ राहत जरुर मिली होगी और बाकी कुछ अन्य वार्डो मै भी दांव आजमा सकते है ये तो समय ही बताएगा वेसे चुनावी समय मजे लेने का भी होता ही है "भिया भर दो फारम हम है चिन्ता कायको करते हो एं ईतने वोट अपने घर के ईतने उसके करके बस बेफिकर लडो जमानत जब्त कराना भी एक हुनर ही है" आगे आगे देखें होता है क्या कितने नए उम्मिद्वार गुपचुप फार्म भरके अचानक मिलते ही कहे " ध्यान रखना आपके भरोसे भरा है हो" या "कौन माथा फोडी करे अपनी सुनने की नही सुनाने की आदत है ईसिलिए अपन तो चुनाव वुनाव नी लडते" कहने वाले मिलते है ये तो आगे आने वाले दिनो मै ही पता लगेगा अब बात सरपंच चुनाव की तो अब जगह जगह मैहनत करके सामाजिक और धार्मिक आयोजनो मै सहयोग  देकर हाथ जोडकर बडे बडे मंत्री नेताओ के साथ मंच पर जगह बनाकर या येन केन प्रकारेण जैसे भी सपने सजाने वाले सरपंच पद के योद्धाओ को महिला सीट वापस होने से कम परेशानी नही है उसी तरह की परेशानी है जैसी पंच मै है सीधे सीधे कईयो को राहत है क्योकी जनता कुछ कुछ तो ईतने सालो मै पहचानती ही होगी और कई ईससे आहत है पर क्या करे साब ये चुनावी आहट है बहरहाल जनता देखना तो चाहेगी की हमारा अगला पंच या सरंपच कौन होगा ईसिलिएअब पोस्टर हो या जन संपर्क एक तरफ अब भैय्या और एक तरफ भाभी जी को प्रगट होना ही होगा (चाहे फिर शायद सारा काम बाद मै भैय्या ही संभाले) आने वाले सरंपच और पंच महोदय गांव के लिए क्या करेंगे ये तो घोषणा पत्र से ही पता चल पाएगा कुछ की सोच ऊंची भी हो सकती है कि जब हारना ही है तो क्यो ना बडा चुनाव लडकर ही हारे बाकी सब राजयोग के हाथ बाकी चुनाव प्रभु जाने की ऊंट किस करवट बैठता है सामान्यतः ये चुनावी ऊंट अंतिम वोट की गिनती तक अक्सर या यो कहै ज्यादातर खडा ही रहता है और कईं जान बुझकर ये जाने हुए भी किस करवट बैठेगा या बैठाना है ईसे खडा ही रखते है खैर कल यानी सोमवार  से नामांकन पत्र जमा होना शुरु हो जाएंगे जिसमे जि पं सदस्य के फार्म 8 हजार जमा करके धार मुख्यालय पर और ज पं और ग्राम पंचायत के फार्म जनपद मै जमा किए जा सकेंगे जिसमे ज पं सदस्य उम्मिद्वार को 4000 सरंपच पद उम्मिद्वार को 2000 एवं पंच पद के लिए 400 रु जमा कर नामांकन जमा करना होंगे तब तक के लिए  सभी पाठको को जय राम जी की मिलते है चुनावी चुलबुल के अगले अंक मै बने रहिए विचार न्युज के साथ


Share To:

Post A Comment: