झाबुआ~क्षेत्रीय किसानों की फसल आने से सब्जी के दामों में आई गिरावट.~~

मध्यम वर्गीय परिवारों ने राहत की सांस ली
सब्जियों के दाम आधे -लहसुन 200 से 60,नींबू 200 से 100,अरबी 80 से 20,शिमला मिर्च के दाम 80 से 60 रुपए किलो~|


झाबुआसंजय जैन~~

स्थानीय व क्षेत्रीय किसानों की फसल बाजार में आ जाने पर सब्जी के दामों में भारी गिरावट आई है। कई सब्जी में तो 3 गुना से 40 गुना गिरावट आई है। सब्जी के दामों में गिरावट आने से शादी विवाह वाले मध्यम वर्गीय परिवारों ने राहत की सांस ली है।





 
मध्यम वर्गीय परिवारों ने राहत की सांस ली....
बाजार में 15 दिन पहले नींबू 200 रुपए बिक रहा था, जो अब 100 रुपए बिक रहा है। इसी तरह 200 रुपए किलो बिकने वाला लहसुन इस समय 60 रुपए प्रति किलो बाजार में उपलब्ध है। इसी तरह भिंडी जो 60 रुपए किलो थी वह 20 रुपए किलो,बैंगन 40 की जगह 20 रुपए किलो,प्याज 50 रुपए की जगह 15 रुपए,लौकी 40 की जगह 20 रुपए,हरी मिर्च 150 की जगह 50 रुपए किलो,कटहल 60 की जगह 30 रुपए,शिमला मिर्च 60 की जगह 60 रु.,किलो करेला 60 की जगह 30 रुपए किलो,तोरई 60 की जगह 20 रुपए,परवल 80 की जगह 60 रुपए किलो,अरबी-घुइया 80 की जगह 20 रुपए किलो,नींबू 200 से 100 रुपए किलो बिक रहा है।





 
दाम आसमान छूने लगे थे......
गर्मी शुरू होते ही सब्जी के दाम आसमान छूने लगे थे। मध्यम वर्गीय परिवारों,खासकर शादी विवाह वाले परिवारों के जेब पर आर्थिक बोझ पड़ रहा था। लेकिन अब स्थानीय व क्षेत्रीय किसानों की फसल पर्याप्त मात्रा में बाजार में आ गई है। जिससे अब सब्जी के दाम यकायक गिर गए हैं। इन दिनों शादी विवाह का सीजन चल रहा है। दाम गिरने पर मध्यम वर्गीय परिवारों ने राहत की सांस ली है।




  जिस रेट पर चीज मिलेगी,हम भी उसी हिसाब से बेचेंगे......   
किसानों की फसल ने बिगाड़ दिए रेट सब्जी विक्रेताओं ने बताया कि पहले अधिकतर सब्जी बाहर से आती थी,जिससे इसके दाम बढ़े थे लेकिन अब स्थानीय किसानों की सब्जी पर्याप्त मात्रा में बाजार में आ रही है,जिससे इसके दाम गिर गए हैं। हम लोग तो दुकानदार हैं,हमें जिस रेट पर चीज मिलेगी,हम भी उसी हिसाब से बेचेंगे। सब्जियों दाम पर मौसम का भी असर देखा जा रहा है।




Share To:

Post A Comment: