भोपाल~अयाना को रमजान के रोजे रखने पर नाना जाकिर कुरैशी का तोहफा पढ़ाई का पूरा खर्चा उठाएंगे~~

भोपाल सैयद रिजवान अली~~

सपने सच हो जाते हैं हर दुआ काम आती है और फिर बहन बेटी भांजी और नवासा, नवासी की दुआ से रोजमर्रा की जिंदगी में मामू नाना को फायदा होता है और वह तरक्की करते हैं खुशहाल रहते हैं यह सच है। मंडलेश्वर निवासी रिटायर्ड बैंक मैनेजर हाजी अब्दुल मजीद खान की 4 वर्षीय पोती  अयाना पिता आवेश खान और बकानेर निवासी जाकिर हाजी आबिद हुसैन कुरेशी की नवासी, एडवोकेट शबाना कुरेशी की भांजी अयाना ने जो कि अभी आंगनवाड़ी और यूकेजी की छात्रा है जिंदगी के महज चौथा रमजान उसने देखा और रोजे रखे टीवी मोबाइल पर देश दुनिया में हो रहे हालात के बारे में जानते हुए रोजा रमजान के रखते हुए उसने दुआएं मांगी मंडलेश्वर बाकानेर सहित पूरा भारत और पूरी दुनिया के लोग आपदाओं से महफूज रहे, सब खैरियत से रहें, सब सेहतमंद रहे भाईचारा कायम रहे करोना महामारी हमेशा के लिए दुनिया से चली जाए। पापा ,चाचा ,मामू, नाना की कमाई में बरकत हो खेती में खूब फसल पके, ककड़ी ,भुट्टे मूंगफली पके, यह सब दुआएं रमजान में अयाना ने मांगी और इंशाल्लाह अल्लाह ताला सब दुआएं जरूर कबूल करेगा और दुआ के रिजल्ट बी कुदरत ने देना चालू कर दिया मामू नाना की फसल खेत की अच्छी पक्की और मामू की अच्छी नौकरी इंदौर में लग बी गई। छुट्टियों में नवासी अयाना का नाना इंतजार कर रहे हैं और उन्होंने अभी से यह घोषणा रिश्तेदार और मिलने वालों में कर दी है कि उसकी पढ़ाई का खर्चा पुरा
नाना उठाएंगे और उसे काबिल और होनहार बनाएंगे जहां तक भी वह पढ़ाई करेगी।नाना जाकिर हाजी आबिद हुसैन कुरेशी की इस घोषणा से सभी रिश्तेदारों में हर्ष और समाज में दोस्त यारों मिलने वालों में हर्ष है कि नाना की पहल वाकई रंग लाएगी और दूसरे लोग भी नाना की तरह पहल करते हुए अपनी न वासियों का ध्यान रखते हुए उन्हें होना हार बना कर पढ़ाई लिखाई में ध्यान दें तो यह काबिले तारीफ नजीर होगी। हालांकि अयाना के पापा दादा ने कहा अल्लाह ताला ने आप सब की दुआओं से हमें भी नवाज रखा है हम ही अयाना को पढ़ा लिखा कर काबिल बनाएंगे। नाना नानी मामू की दुआएं मिलती रहे काफी है।


Share To:

Post A Comment: