*भोपाल~मानसंगम धाम* पर हुआ खड़े रहने वाले संत का स्वागत... बाबा ने की अपील.~~

नर्मदा घाट पर साबुन शैंपू का उपयोग नहीं करना~~

भोपाल सैयद रिजवान अली~~

हरियाणा के गांव - रूपसराय तह. नागलचौधरी हरियाणा से माँ नर्मदा के भक्त नर्मदा पुत्र पूज्य *संत भेरूखड़े श्रीजी* 24 वर्षो की तपस्या में सात वर्ष से 24 घंटे खड़े होकर ही रहते है। बाबा श्री ने साथ वर्ष से अन्न का त्याग किया है। नर्मदा जल , चाय पीकर ही रहते है।

*बाबाश्री के उद्देश्य...*

धर्म परिवर्तन को रोकना, सनातन संस्कृति को बचना,

ओर बाल कन्याओं की सेवा एवं कन्या भोजन करवाना।

माँ नर्मदा के जल को संरक्षित स्वच्छ रखना,

साफ सफाई के साथ जल को स्वच्छ रखने के लिए लोंगो को प्रेरित करना।

और नर्मदा घाट में साबुन, सोडा, शैंपू आदि का उपयोग ना करना जिससे कि जल दूषित हो क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी पर्यावरण को स्वच्छ रखने की है घाट के आस-पास फैले प्लास्टिक के बोतल प्लास्टिक रैपर व अन्य प्रकार की कचरे को इकठ्ठा कर या करवाना ओर उसको जलाकर नष्ट करना।

बाबाश्री ने प्रथम परिक्रमा 2020 में की ओर द्वितीय परिक्रमा 2021 ओंमकारेश्वर से प्रारम्भ की  हरियाणा से बाबाश्री के भक्त रामसिंग जी सरपंच साहब ने बताया कि हरियाणा साइड मां नर्मदा को बहुत कम लोग जानते हैं। पर बाबाश्री को स्वयंम माँ नर्मदा ने प्रेरणा दी और  बाबाश्री ने माँ नर्मदा जी की आज्ञा स्वीकार की ओर 3200 सौ कि.मी. की नर्मदा परिक्रमा में आप ने 1550 कि.मी. कर आप दिनांक 19 मई 2022 गुरुवार आप उत्तर नर्मदा तट मानसंगम धाम पर आप का आगमन हुआ। श्रीश्री1008श्री राघवदास जी महाराज मानसंगम धाम ने स्वागत किया। आज दिनांक 20 मई 2022 शुक्रवार सुबह बाबा ऋद्धेश्वर महादेव का फल, फुल,नर्मदा जल,पंचामृत से अभिषेक किया गया प.सुरेश जी पंडित रतवा वालो ने कराया। आरती के बाद श्री शिवजी , नर्मदाजी ओर हनुमान जी को प्रसादी भोग लगाया गया। उसके बाद कन्या भोजन हुआ। बाबाश्री के साथ परम सेवक भण्डारीनाथ जी 24 घण्टे सेवा में साथ चलते है। उक्त जानकारी समाजसेवी मिर्जापुर निलेश पाटीदार मनोज पाटीदार ने दी।


Share To:

Post A Comment: