बाकानेर~अयाना को रमजान के रोजे रखने पर ननिहाल वाले देंगे  उपहार~~

बाकानेर सैयद अखलाक अली~~

सपने सच हो जाते हैं हर दुआ काम आती है और फिर बहन बेटी भांजी और नवासा, नवासी की दुआ से रोजमर्रा की जिंदगी में मामू नाना को फायदा होता है और वह तरक्की करते हैं खुशहाल रहते हैं यह सच है। मंडलेश्वर निवासी रिटायर्ड बैंक मैनेजर हाजी अब्दुल मजीद खान की 4 वर्षीय पोती  अयाना पिता आवेश खान और बाकानेर निवासी जाकिर हाजी आबिद हुसैन कुरेशी , डॉक्टर हाजी असगर हुसैन कुरेशी की नवासी, एडवोकेट शबाना कुरेशी, मौलाना हाजी सादिक हुसैन कुरेशी की भांजी अयाना ने जो कि अभी आंगनवाड़ी और यूकेजी की छात्रा है जिंदगी के महज चौथा रमजान उसने देखा और रोजे रखे टीवी मोबाइल पर देश दुनिया में हो रहे हालात के बारे में जानते हुए रोजा रमजान के रखते हुए उसने दुआएं मांगी मंडलेश्वर बाकानेर सहित पूरा भारत और पूरी दुनिया के लोग आपदाओं से महफूज रहे, सब खैरियत से रहें, सब सेहतमंद रहे भाईचारा कायम रहे करोना महामारी हमेशा के लिए दुनिया से चली जाए। पापा ,चाचा ,मामू, नाना की कमाई में बरकत हो खेती में खूब फसल पके, ककड़ी ,भुट्टे मूंगफली पके, यह सब दुआएं रमजान में अयाना ने मांगी और इंशाल्लाह अल्लाह ताला सब दुआएं जरूर कबूल करेगा और दुआ के रिजल्ट बी कुदरत ने देना चालू कर दिया मामू नाना की फसल खेत की अच्छी पक्की और मामू की अच्छी नौकरी इंदौर में लग बी गई। छुट्टियों में नवासी , भांजी,अयाना का नाना, खाला मामू, इंतजार कर रहे हैं और उसे उपहार देंगे।हमारी बी  दुआ है अयाना चांद  तारो की बुलंदी को छूकर काबिल बने।


Share To:

Post A Comment: