धार~धार के ठेकेदारों के टेंडर निरस्ती की कार्रवाई रोकी, बाहरी के किए निरस्त ~~

बैठक में पहुंचकर स्थानीय ठेकेदारों ने कहा 1 महीने में काम करेंगे पूरा, कुछ कामों में सीमेंट-रेती के दाम बढ़ने से नई एसओआर दर की मांग ~~

पट्टे प्रकरण में निलंबित सहायक राजस्व निरीक्षक अरविंद डोड का निलंबन पीआईसी ने किया समाप्त, पुन: किए गए बहाल ~~

स्वागत द्वार व नाले निर्माण का ठेके लेने वाली दो कंपनियों ने किए हाथ खड़े, टेंडर निरस्ती पर सहमति ~~

शहर की दो कॉलोनियों के बगीचों में लगेंगे ओपन जिम, त्रिमूर्ति नगर गोल चौराहे का होगा सौंदर्यीकरण ~~

धार ( डॉ. अशोक शास्त्री )।

नगरपालिका में प्रेसिडेेंट इन काउंसिल की बैठक में स्थानीय ठेकेदारों को बड़ी राहत दी गई है। टेंडर लेने के बाद अलग-अलग कारणों से काम ना शुरु करने वाले ठेकेदारों के टेंडर निरस्त करने की कार्रवाई  स्वीकृति हेतु बैठक के एजेंडे में शामिल की गई थी। इसमें 7 ठेकेदारों के करीब 21 कार्यों को निरस्त करने के लिए प्रस्ताव रखा गया था। पीआईसी ने स्थानीय ठेकेदारों के टेंडर निरस्त करने का प्रस्ताव खारिज कर दिया है। वहीं दूसरे जिलों के ठेकेदारों के टेंडर निरस्त का प्रस्ताव स्वीकार कर   लिया है। दरअसल पीआईसी सदस्यों का कहना है कि स्थानीय ठेकेदारों ने एक माह में लिए गए काम को पूर्ण करने के लिए मौहलत मांगी है। इसको लेकर उन्हें मियादी रियायत दी गई है। सोमवार को पीआईसी की बैठक नपाध्यक्ष पर्वतसिंह चौहान की अध्यक्षता में सीएमओ निशिकांत शुक्ला की अनुपस्थित  में लेखापाल अनुपम तिवारी के  मार्गदर्शन में पूर्ण की गई। इस दौरान इंजीनियर राकेश बैनल सहित शाखाओं के प्रभारी बाबु मौजूद थे। बैठक में कई प्रचलित कार्यों में कार्य समयावधि बढ़ाने के प्रस्तावों को भी सहमति दी गई है।
पुन: बहाल किए गए डोड
पीआईसी की बैठक में इंदौर से बाहर के ठेकेदारों द्वारा लिए गए ठेकों में काम ना करने की असमर्थता जताने के बाद उनके टेंडर निरस्त कर दिए है। ठेकेदारों ने अलग-अलग कारण बताए है जिसमें मुख्य कारण टेंडर लेने के दौरान की एसओआर दर और वर्तमान में निर्माण सामग्रियों की बढ़ी कीमतों के कारण होने वाला नुकसान बताया है। स्वागत द्वार का ठेका लेने वाली इंदौर की भवानी कंस्ट्रक्शन और शौचालय और नाला निर्माण का ठेका लेने वाली उज्जैन की बैजनाथ कंस्ट्रक्शन सहित कई शहर से बाहर की कंपनियों के काम निरस्त किए गए है। इधर बैठक में सबसे बड़ा निर्णय पीआईसी में राजस्व उपनिरीक्षक अरविंद डोड का निलंबन समाप्त करने का लिया गया है। पट्टा प्रकरण में एक जांच के बाद श्री डोड को निलंबित किया गया था। बताया जा रहा है कि विभागीय जांच में उन्हें दोषमुक्त पाया गया है।
निर्माण के कई प्रस्ताव स्वीकृत
पीआईसी की बैठक में शहर में बुनियादी सुविधाओं से संबंधित नाली, सीसी रोड एवं उद्यान सौंदर्यीकरण सहित कई प्रस्तावों को स्वीकृति दी गई है। जिसमें रैदास बस्ती में सामुदायिक भवन में हॉल निर्माण की स्वीकृति दी गई है। वहीं मोची मोहल्ले में करीब 20 लाख रुपए के खर्च से सामुदायिक भवन भी बनाया जाएगा। शहर की दो कॉलोनियों के बगीचों में ओपन जिम का प्रस्ताव भी स्वीकृत कर दिया गया है। वहीं त्रिमूर्ति नगर कॉलोनी के गोल चौराहे के सौंदर्यीकरण के लिए निकाय 2 लाख से अधिक की राशि खर्च करने वाला है। इसके अतिरिक्त पौ चौपाटी हनुमान मंदिर जीर्णोद्धार, काल भैरव मंदिर प्रवेश मार्ग की सड़क सहित दर्जनों छोटे-बड़े प्रस्तावों को स्वीकृति दी गई है।
ेबारिश में डामरीकरण के प्रस्ताव स्वीकृत
नगरपालिका शहर में जीर्णशीर्ण हो चुकी डामर सड़कों पर डामरीकरण के प्रस्ताव पर सहमति बन गई है। इसके तहत शहर के कैलाश नगर, क्विंस पार्क कॉलोनी में डामरीकरण कार्य कराया जाएगा। इसी के साथ मुरादपुरा और भाजीबाजार के क्षतिग्रस्त डामर मार्गों पर भी डामर की परत चढ़ाई जाएगी। उल्लेखनीय है कि शहर की बुंदेलवाड़ी सहित कई क्षेत्रों में डामर सड़कें खराब है। इन्हें बारिश के पूर्व बनाया जाना था, लेकिन 65 लाख का शहर में डामरीकरण होने के बावजूद इन क्षेत्रों में काम नहीं हो पाए।
इनका कहना है
मैं आवश्यक कार्य से बाहर होने के कारण बैठक में शामिल नहीं हो पाया। मुझे निलंबन समाप्त करने के बादे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं है।
-निशिकांत शुक्ला, सीएमओ नपा धार


Share To:

Post A Comment: