झाबुआ~ आरटीई-30 जून तक ऑनलाइन आवेदन,गलती भी पोर्टल पर सुधरेगी~~

सर्कुलर जारी-पोर्टल से पावती डाउनलोड करने के बाद जनशिक्षा केंद्र पर सत्यापन कराना होगा~~


झाबुआसंजय जैन~~

गरीब और कमजोर बच्चों को निजी स्कूलों में निशुल्क प्रवेश दिलाने के लिए शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत इस साल भी ऑनलाइन आवेदन करना होंगे। पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन और त्रुटि सुधार का विकल्प 15 से 30 जून तक रहेगा। इस दौरान ऑनलाइन आवेदन के बाद पोर्टल से पावती 2 प्रति में डाउनलोड कर मूल दस्तावेजों के साथ जन शिक्षा केंद्र में सत्यापन करवाना होगा। सत्यापन की यह प्रक्रिया 20 जून से 1 जुलाई तक चलेगी।




 रेंडम पद्धति से ऑनलाईन लॉटरी द्वारा स्कूल का आवंटन.....
रेंडम पद्धति से ऑनलाईन लॉटरी द्वारा स्कूल का आवंटन और चयनित आवेदकों को एसएमएस से 5 जुलाई को सूचना दी जाएगी। 6 जुलाई से 16 जुलाई पर बच्चों को संबंधित स्कूलों में उपस्थित होकर प्रवेश लेना होगा। स्कूल संचालकों को इसकी जानकारी पोर्टल पर अपडेट करना होगी। इस बार आवेदनों में त्रुटि सुधार ऑनलाइन ही होगा। इसलिए आवेदक पहले से ही यह अच्छे से देख लें कि आवेदन में प्रत्येक जानकारी दस्तावेज के आधार पर ही भरी हो। त्रुटि सुधार के अभाव में आवेदन निरस्त भी हो सकता है।






दूसरे चरण में मिलेगा च्वाइस अपडेट करने का मौका.......
इस बार आरटीई के तहत निशुल्क प्रवेश प्रक्रिया के दूसरे चरण में सिर्फ  स्कूलों की च्वाइस अपडेट करने का मौका मिलेगा। 30 जून के बाद कोई भी विद्यार्थी आवेदन या त्रुटि सुधार नहीं कर पाएगा। निजी स्कूलों में दूसरा चरण 20 जुलाई से शुरू होगा। 20 से 25 जुलाई तक बच्चे स्कूलों की च्वाइस को अपडेट करेंगे। इसके बाद 28 जुलाई को लॉटरी द्वारा स्कूल आवंटन किया जाएगा। 28 जुलाई से 5 अगस्त तक बच्चों को आवंटित स्कूलों में पहुंचकर प्रवेश लेना होगा।






प्रवेश के लिए उम्र की पात्रता......
आवेदन की कक्षा न्यूनतम आयु नर्सरी/केजी 1 वर्ष / केजी-2 3 से 5 वर्ष,कक्षा 1 के लिए 5 से 7 वर्ष




निशुल्क प्रवेश के लिए इन्हें है पात्रता.........
* वंचित समूह-अनुसूचित जाति,अनुसूचित जनजाति,वन भूमि के पट्टाधारी परिवार के बच्चे,विमुक्त जाति,निशक्त बच्चे और एचआईवी ग्रस्त बच्चे।  
* कमजोर वर्ग-गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले बच्चे,अनाथ बच्चे,कोविड के दौरान माता*पिता या अभिभावक की मृत्यु के कारण अनाथ हुए बच्चे।




Share To:

Post A Comment: