झाबुआ~दो बार जनपद पंचायत झाबुआ के अध्यक्ष रहने वाले शंकरसिंह भूरिया को हराकर भाजपा समर्थित कमिता राजू निनामा बनी जनपद अध्यक्ष की प्रबल दावेदार~~





 जनपद पंचायत झाबुआ के अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पद को लेकर इस बार रहेगा कड़ा मुकाबला, 27 जुलाई को होगा भाग्य का फैसला~~



झाबुआ। जनपद पंचायत झाबुआ के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के चुनाव इस बार काफी रोमांचक रहने वाले है, क्योकि 20 वार्डों वाली इस पंचायत से दोनों प्रमुख राजनीतिक दल भाजपा और कांग्रेस से 10-10 उम्मीदवार जनपद सदस्य के लिए विजयी घोषित हुए है, ऐसे में फिलहाल यह साफ तौर पर नहीं कहा जा सकता है कि किस पार्टी का उम्मीदवार अध्यक्ष या उपाध्यक्ष पद पर काबिज होगा। अध्यक्ष-उपाध्यक्ष का चुनाव आगामी 27 जुलाई, बुधवार को होना है।

 
यदि जनपद पंचायत झाबुआ के पिछले वर्षों के चुनाव परिणाम पर नजर डाली जाए, तो अब तक इस पंचायत पर अधिकाशंतः कांग्रेस समर्थित उम्मीद्वारों का कब्जा रहने के साथ ही अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष भी कांग्रेस पार्टी से ही बने है। पूर्व कार्यकाल में जनपद पंचायत झाबुआ में वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व जिला कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष मानसिंह मेड़ा का काफी समय तक कब्जा रहा है। उनकी पुत्री काफी समय तक जनपद पंचायत अध्यक्ष पद पर रहकर कार्य कर चुकी है। वर्तमान में भी मानसिंह मेड़ा परिवार की जनपद क्षेत्र में पकड़ काफी मजबूत है। मानसिंह मेड़ा को वरिष्ठता के आधार पर इस क्षेत्र का काफी अनुभव भी है।

 
करीब साढे 12 साल जनपद अध्यक्ष रहे शंकरसिंह भूरिया
मानसिंह मेड़ा के एक कार्यकाल में ढ़ाई वर्ष बाद अध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस से शंकरसिंह भूरिया को मिला मिला  और उनके भी जनपद अध्यक्ष रहते हुए अच्छे कार्यों के चलते वह जब पुनः जनपद सदस्य के लिए अपने क्षेत्र से चुनाव लड़े, तो विजयी घोषित हुए, उन्हें दूसरी बार भी अध्यक्ष पद पर रहने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।  उनके पास कोई भी ग्रामीण समस्या लेकर जाता तो, उनका वह तत्काल निराकरण भी करवाते थे।
पार्टी और लोगों में बनाई अच्छी पहचान
शंकरसिंह भूरिया ने अपने संपूर्ण कार्यकाल के दौरान कांग्रेस में भी अपनी छवि हमेशा साफ-सुथरी रखी। पार्टी के सभी कार्यक्रमांे और गतिविधियों में शामिल होने से लेकर जनपद पंचायत कार्यालय में भी सभी अधिकारी-कर्मचारियों से आपसी सामन्जस्य और तालमेल के साथ चलने से वह काफी लोकप्रिय हो गए थे। वर्ष 2022 के चुनाव में भी कांग्रेस को उन पर पूरा भरोसा था कि वह चाहे जनपद झाबुआ अंतर्गत आने वाले 20 वार्डों में किसी भी वार्ड से यदि चुनाव लड़ेंगे, तो उन्हें एक तरफा जीत हीं मिलेगी। 


भाजपा समर्थित कमिता राजू निनामा ने दी कड़ी पटखनी
शंकर सिंह भूरिया इस बार जनपद पंचायत के वार्ड क्र. 8 से चुनाव लड़े, लेकिन इस बार किस्मत और भाग्य ने उनका साथ नहीं दिया। उनके सामने भाजपा समर्थित प्रत्याशी श्रीमती कमिता राजू निनामा निवासी नवागांव ने चुनाव लड़कर इस मजूबत एवं कड़े प्रतिद्वंदी को 1303 वोटो से पराजित किया। कमिता निनामा को कुल 3076 मत प्राप्त हुए, जबकि शंकर सिंह भूरिया को 1773 वोट ही मिलने से इस सीट पर भाजपा समर्थित प्रत्याशी ने एक तरफा जीत हासिल की।



27  को होगा भाग्य का फैसला
श्रीमती कमिता राजू निनामा के भारी बहुमतों से विजयी होने के बाद अब वह जनपद अध्यक्ष पद के लिए भी प्रबल दावेदारी कर रहीं है। निवार्चन आयोग द्वारा त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव अंतर्गत जनपद पंचायतों के अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पदों के चुनाव की घोषणा करने के बाद आगामी  27  जुलाई, बुधवार को जनपद पंचायत झाबुआ के लिए भी अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष का चुनाव होना है। इस पंचायत में कुल 20 वार्ड है। जिसमें 10 पर भाजपा तो 10 पर कांग्रेस समर्थित प्रत्याशियों ने कब्जा जमाया है। अब देखना यह है कि इस पंचायत से किस पार्टी का अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष उम्मीदवार विजयी होता है। दोनो ही पार्टियों केे नेताओं और वरिष्ठ पदाधिकारियों की इस पर नजर है। बराबरी के इस मुकाबले में जोड़-तोड़ कर वर्तमान सत्तारूढ़ भाजपा का उम्मीद्वार बाजी मारता है, या अब तक परंपरागत कांग्रेस का गढ़ माने जाने वाली इस सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी अध्यक्ष-उपाध्यक्ष कब्जा जमाते है, दोनो ही पार्टी के लिए यह प्रतिष्ठा के चुनाव है।  


Share To:

Post A Comment: