झाबुआ~गरीबों को मिलने वाली सुविधाओं में हो रही धीरे-धीरे कटौती ~~

गरीबों को मिलने वाली सरकारी रोटी में कटौती-पीएम और सीएम दोनों योजनाओं में गेहूं 4 के बजाय 3 किलो मिलेगा,1 किलो चावल बढ़ाया~~


झाबुआसंजय जैन~~

प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री अन्न योजना के तहत गरीबों को मिलने वाले गेहूं में कटौती की गई है। गेहूं के बदले चावल की मात्रा बढ़ाई गई है। मालवा क्षेत्र में लोगों का मुख्य आहार रोटी है। चावल शौकिया तौर पर खाए जाते है। ऐसे में सीधे तौर पर गरीबों की रोटी में कटौती की गई है। जिले में 2  लाख 24 हजार 32 गरीब परिवार है। इन परिवारों में 10 लाख 75 हजार 313 सदस्य है।





 
आवंटन से 10753 क्विंटल गेहूं में कटौती की गई,सुविधाओं में हो रही धीरे-धीरे कटौती .......
पहले प्रत्येक सदस्य को 4 किलो गेहूं तथा 1 किलो चावल मिलता था। अब प्रत्येक सदस्य को 3 किलो गेहूं तथा 2 किलो चावल मिलेंगे। हर सदस्य के हिस्से से 1 किलो गेहूं कम कर दिया गया है। सरकार गरीबों को मिलने वाली सुविधाओं में धीरे-धीरे कटौती कर रही है। पहले गैस सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी में कटौती गई। अब गरीबों को मिलने वाले गेहूं में कटौती की जा रही है। प्रत्येक सदस्य के हिस्से से 1 किलो गेहूं कम किया गया है। इस तरह जिले को मिलने वाले कुल आवंटन से 10753 क्विंटल गेहूं में कटौती की गई है।





 
जिले में चावल की उपयोगिता कम......
मालवा क्षेत्र के जिलों में लोगों का मुख्य भोजन रोटी-सब्जी है। ऐसे में सरकार ने गेहूं की मात्रा में कटौती की है। जिसका सीधा असर गरीब की थाली पर हुआ है। अब गरीब की थाली में सरकारी रोटी कम मात्रा में दिखेगी। गरीबों को मिलने वाले राशन में गेहूं की कटौती जून माह से शुरू हुई। जिसकी वजह से जिले के करीब 2 लाख 24 हजार 32 परिवारों के हिस्से में रोटी कम आई,वहीं अनुपयोगी चावल की मात्रा बढ़ाई गई।






सरकारी स्तर से हुई कटौती....
पीएम तथा सीएम योजना में मिलने वाला गेहूं कम किया है। गेहूं की जगह चावल की मात्रा बढ़ाई गई है। प्रति सदस्य को 1 किलो चावल बढ़कर मिलेगा। सरकारी स्तर से कटौती हुई है। कटौती का कारण पता नहीं है।
........................मुकुल त्यागी-जिला आपूर्ति अधिकारी




Share To:

Post A Comment: