धार~मामला धार कोतवाली क्षेत्र का......
4 सटोरियों से जब्त किए 48 लाख, गबन के आरोपी ने आॅनलाईन सट्टे में लगाई थी रकम ~~

18 दिन में पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार करके बरामद की लगभग शत प्रतिशत गबन राशि ~~

केशियर को हिरासत में लेने के बाद रिमांड में खुले सट्टे में पैसे लगाने के राज ~~

सटोरियों की गिरफ्तारी के साथ पुलिस ने उनसे रिकवर की पूरी राशि, 36 दिन में 49 लाख 9 हजार 33 रुपए का गबन करके सट्टे में लगाई थी केशियर ने राशि ~~

धार ( डॉ. अशोक शास्त्री )।

धार कोतवाली पुलिस को करीब 50 लाख की राशि के गबन मामले में महत्वपूर्ण सफलता हासिल हुई है। पुलिस ने इस मामले में लगभग 48 लाख 18 हजार की राशि बरामद करते हुए करीब 5 लोगों को आरोपी बनाया है। गुरुवार को पत्र परिषद् में एएसपी देवेन्द्र पाटीदार ने पूरे मामले की जानकारी मीडिया के समक्ष रखी। श्री पाटीदार ने बताया कि गबन का मुख्य आरोपी केशियर अश्विन गोस्वामी ने अपने परिचित आरोपी राजदीप से पहचान होने के कारण उसके उकसावे में महिन्द्रा शोरूम कंपनी में आने वाली सिल्लक में से राशि को गबन करके आॅनलाईन सट्टे में लगाया था। इस मामले में पुलिस ने धार-सिंघाना के 4 सटोरियों को हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ के बाद सट्टे में लगाई गई गबन की राशि में से 48 लाख 18 हजार  और 5 मोबाईल और कुछ दस्तावेज बरामद किए हैं। आरोपियों से  प्रेस में जानकारी देने के दौरान सीएसपी देवेन्द्र धुर्वे, कोतवाली थाना प्रभारी समीर पाटीदार मौजूद थे।
36 दिन में लगाए 49 लाख
धार के सौम्या व्हीकल्स कंपनी के जनरल मैनेजर दिनेश ने कंपनी के आॅडिट में गबन का मामला पकड़ा था। इसके बाद कोतवाली थाने पर 18 जून को आवेदन दिया गया था। पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए सबसे पहले केशियर अश्विन गोस्वामी को हिरासत में लिया था। कोर्ट से अश्विन का पुलिस रिमांड मांगा गया था। जिसमें अश्विन ने गबन की राशि आॅनलाईन सट्टे में लगाने की बात कबूली। इसके बाद सटोरियों के नाम सामने आए। धार और सिंघाना के सटोरियों को हिरासत में लिया गया। जिसके बाद उनके माध्यम से राशि रिकवर की गई। 1 मई से लेकर 9 जून के मध्य केशियर ने कंपनी के खाते से 49 लाख सट्टे में लगाए थे। इसके पूर्व भी केशियर पैसा निकालकर लगाता रहा। मुनाफा भी कमाया। उसे वापस कंपनी के खाते में जमा करता रहा।
18 दिन में मामले का खुलासा
गबन को लेकर दर्ज कोतवाली थाने का यह मुकदमा करीब 99 प्रतिशत राशि रिकवर करने के कारण महत्वपूर्ण हो गया है। कोतवाली पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करने के बाद महज 18 दिन में मामले से जुड़े सभी लोगों को  ना सिर्फ गिरफ्तार किया है बल्कि उनसे राशि बरामद की है। इस पूरी मुहिम में टीआई समीर पाटीदार, उपनिरीक्षक सौरभ शुक्ला, प्रधान आरक्षक योगेश शर्मा, आशिफ शेख, सुनील यादव, आरक्षक प्रदीप पाटिल, अरविंद चौहान, शिव वास्कले, शुभम जादौन और सायबर सेल के आरक्षक प्रशांत चौहान का सराहनीय योगदान रहा।
इन्हें किया गिरफ्तार
ेपुलिस ने आॅनलाईन सट्टा कारोबार से जुड़े धार के पारस पिता रतनलाल अग्रवाल उम्र 33 साल निवासी धानमंडी, राजदीप पिता जगदीश हम्मड़ उम्र 35 वर्ष निवासी सिंघाना तहसील मनावर, सावंत पिता हेमंत राठौर उम्र 32 साल निवासी सिंघाना तहसील मनावर, प्रदीप पिता हेमाजी राठौर उम्र 32 साल निवासी सिंघाना को सह आरोपित बनाया है। मामले में मुख्य आरोपी कंपनी के केशियर अश्विन गोस्वामी ने इनके मार्फत ही सट्टे में पैसा लगाया था। 


Share To:

Post A Comment: