नसरुल्लागंज~मध्य प्रदेश प्रशासन द्वारा मछली मारने पर प्रतिबंध है इसके बाद भी धड़ाके से समस्त घाटों पर खुलेआम हो रहा है मछली पकड़ने का कार्य~`

जिसकी जानकारी समस्त अधिकारियों के पास उसके बाद भी कोई कार्रवाई करने को तैयार नहीं~~

नसरुल्लागंज से आनंद अग्रवाल जिला ब्यूरो की रिपोर्ट~~

नसरुल्लागंज तहसील में समस्त नर्मदा घाट एवं बड़ी नदियों पर मछुआरे मच्छी मारने का कार्य तेजी से कर रहे हैं यह बात सभी को मालूम है कि 15 अगस्त तक मछली मारने पर प्रतिबंध है क्योंकि 15 जून से 15 अगस्त तक मछलियां अंडे देती हैं इसीलिए प्रशासन द्वारा मछली मारने पर प्रतिबंध होता है लेकिन मात्र  कागजों पर ही कई सालों से दिख रहा है कि प्रतिबंध है लेकिन हकीकत में तो नर्मदा तट के मछुआरे खुलेआम मच्छी पकड़ते हैं और खुलेआम बेचते हैं जिसका जीता जागता समस्त नर्मदा घाट एवं बड़ी नदियों के घाट पर देखा जा सकता है इतना ही नहीं यह मछुआरे मच्छी पकड़ने के बाद इन मच्छी इंदौर भोपाल सीहोर उज्जैन देवास कई जिलों में आसानी से भेज देते हैं क्योंकि समस्त व्यापारियों के थाने बन जाते हैं इसलिए कोई भी पुलिस प्रशासन इन पर कार्रवाई नहीं करता है नाही मस्तक विभाग भी कोई कार्रवाई नहीं करते हैं मात्र नियम निकाल देते हैं कि 15 जून से 15 अगस्त तक मछली पकड़ना प्रतिबंध रहेगा उसके बाद कोई भी अधिकारी कहीं भी किसी भी घाट पर नहीं जाते हैं वह वे समस्त अधिकारी अपने ऑफिस में ऐसी में बैठे रहते हैं और अपराधी आसानी से समस्त कार्य को अंजाम देकर आसानी से निकल जाता है और इन अधिकारियों को भनक तक नहीं लगती क्योंकि इन अधिकारियों को मालूम है क्या हो रहा है उसके बाद भी कार्रवाई


Share To:

Post A Comment: