धार~पीछे की कतार का विद्यार्थी आगे आकर समझने की कोशिश करे तो यह अध्ययन की सफलता है-अग्रवाल~~

बुक से सीधे पढ़ाकर विज्ञान को बोझिलबनाए-रायगांवकर~~

शिक्षकों के लिए विज्ञान प्रशिक्षण का आयोजन ~~

धार ( डाॅ. अशोक शास्त्री )।

जिला पंचायत सीईओ केएल मीणा के मार्गदर्शन में एवं श्रीमती सुप्रिया बिसेन  सहायक आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग धार के सहयोग से शिक्षकों का विज्ञान प्रशिक्षण निजी होटल में चल रहा है।  गुब्बारे, पानी की बोतल, गिलास के साथ जब विज्ञान के जटिल सि़द्धांतों को मनोरंजक तरीके से प्रस्तुत किया गया तो पीछे की कतार में बैठे प्रतिभागी भी अपने आपको सामने आकर सीखने से न रोक सके। अध्यापन का यह नया अंदाज लेकर 35 सालों से अधिक से विज्ञान लोकप्रियकरण के लिए कार्यरत सुरेश अग्रवाल तथा पुणे से  वीबी रायगांवकर नटराज होटल धार में रिसोर्स पर्सन के रूप में जिले के शिक्षकों को प्रशिक्षण देने आये हैं। प्रशिक्षण के पीआई केएस तोमर ने बताया कि जिपं सीईओ के मार्गदर्शन एवं उत्प्रेरण से संचारिका भोपाल संस्था द्वारा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय नई दिल्ली के एनसीएसटीसी के सहयोग से यह प्रशिक्षण आरंभ हुआ है।
प्रशिक्षण के उद्देश्यों को बताया
पांच दिवसीय प्रशिक्षण के आरंभ में समन्वयक एमएस नरवरिया ने प्रशिक्षण के उद्देश्यों को बताया। श्री रायगांवकर ने ध्वनि, तरंग से संबधित प्रयोंगों को घरेलू सामग्री से करके समझाया। वहीं श्री अग्रवाल ने दाब से संबंधित अनेक प्रयोग करके बताए। श्री अग्रवाल ने कहा कि विज्ञान को बच्चें की प्रारंभिक शिक्षा के समय समझ कर पढ़ने की आदत डालने में यह प्रयोग प्रभावी होते हैं। इससे उच्च शिक्षा में विज्ञान को जीवन के साथ जोड़कर समझने में मदद मिलती है। प्रशिक्षण में एपीसी श्री ठाकुर, एपीसी भूषण देशपांडे, भारत बर्फा बीएसी तथा संचारिका के हरीश चौधरी एवं कैलाश पटेल मौजूद थे। 
चित्र है 31धार6-


Share To:

Post A Comment: