धार~दहाड़ों से मिली तेंदुए के कुएं में होने की जानकारी, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यू ~~

धामनोद रेंज के तीतीपुरा में कृषक के कुएं में गिरा तेंदुआ, पकड़ने के बाद जंगल में छोड़ा ~`

धार ( डॉ. अशोक शास्त्री )।

धामनोद रेंज के ग्राम तीतीपुरा में मंगलवार सुबह जंगली पशु की दहाड़ से ग्रामीणों में घबराहट फैल गई। लगातार दहाड़ों की आवाज के बाद ग्रामीणों ने जब आवाज की और रूख किया गया तो एक कुएं के अंदर से तेंदुए की मौजूदगी दिखाई दी। इस घटना के बाद लोगों की भीड़ लग गई। दरअसल तेंदुआ जहां गिरा था वह कृषक शिवराम रामसिंह चौहान के खेत के पास का कुआं है। इस तरह के आवाजाही वाले क्षेत्र में तेंदुए की आमद की जानकारी के बाद लोगों में घबराहट हो गई है। इधर इस मामले की सूचना वन विभाग की टीम को दी गई। इसके बाद सब रेंज तीतीपुरा से वन विभाग की टीम और मांडू और धामनोद परिक्षेत्र का पूरा अमला मौके पर पहुंचा था। जानकारी के अनुसार तेंदुआ खाने की तलाश में आया होगा। इस दौरान बगैर मुंडेर के कुएं में गिर गया होगा।  घटना सुबह 3-4 बजे के आसपास की मानी जा रही है।
इंदौर की टीम ने किया रेस्क्यू
मंगलवार को स्थानीय वन विभाग की टीम ने रेस्क्यू के लिए काफी मशक्कत की। इसके बाद इंदौर के रालामंडल से रेस्क्यू टीम को बुलवाया गया। तेंदुए को कुएं से बाहर निकालने के लिए पिंजरा डाला गया। पिंजरा कुएं में जाते ही कुछ देर के अंदर ही तेंदुआ पिंजरे में बैठ गया। संभवत: वह भी बाहर निकलने के लिए किसी सहारे की तलाश में था। मांडू वन परिक्षेत्र के डिप्टी रेंजर जगदीश मालवीय ने बताया कि भोजन की तलाश के दौरान कुएं में गिरने की पूरी संभावना है। तेंदुए को पकड़ने के पश्चात उसे जंगल में छोड़ने की बात कही जा रही है। 
भोजन तलाश में वन बस्तियों की और रूख
जिले में तेंदुए की गतिविधियां लगातार देखी जा रही है। वन क्षेत्र में भोजन की कमी के कारण तेंदुओं को खाने की तलाश में बस्तियों की और रूख करना पड़ रहा है। इसके कारण कई मर्तबा तेंदुए के हमले में लोगों के घायल होने सहित मौत की घटनाएं हो चुकी है। इधर वन क्षेत्रों में बसे लोगों की सुरक्षा पर भी लगातार खतरा बना रहता है। वनों में यदि पर्याप्त भोजन की व्यवस्थाएं हो जाए तो संभवत: तेंदुओं के बस्तियों की और आने पर रोक लगेगी। 


Share To:

Post A Comment: