धार~धोखाधड़ी के आरोपित भू-कारोबारी का जमानत आवेदन नॉट प्रेस ~~

ज्ञानपुरा मामले में मिल चुकी है जमानत, साई रेसीडेंसी मामले में बंद है जेल में ~~

धार ( डॉ. अशोक शास्त्री )।

धोखाधड़ी के आरोप में फंसे भू-कारोबारी अनूज उर्फ भोला तिवारी ने शुक्रवार को अपना जमानत आवेदन नॉट प्रेस करवा लिया है। कोर्ट के रूख को देखते हुए यह कदम उठाया गया है। आवेदन नॉट प्रेस करवाने के बाद अब तिवारी जमानत का आवेदन पुन: लगाने के लिए उचित समय का इंतजार करेंगे। उल्लेखनीय है कि साई रेसीडेंसी कॉलोनी जिसे निहाल नगर के नाम से भी जाना जाता है। इस कॉलोनी में विकास कार्य पेटे नगरपालिका में बंधक रखे गए प्लाट षड्यंत्र करके श्री तिवारी और गिन्नी रियलीटिस के गौतम गिरीश जैन ने बेच दिए थे। धार नगरपालिका की शिकायत पर नौगांव पुलिस ने इसमें प्रकरण दर्ज किया था। तिवारी को गिरफ्तार किया गया। 
ज्ञानपुरा प्रकरण में राहत
अनुज तिवारी पर दो अलग-अलग थाना क्षेत्र नौगांव और तिरला में जमीन को लेकर धोखाधड़ी के मामले दर्ज है। पिछले कई समय से तिवारी जेल में बंद है। तिरला थाने में दर्ज प्रकरण में श्री तिवारी को कोर्ट से जमानत मिल गई है। इस मामले में दोनों पक्षों में समझौता होने की बात भी कही जा रही है। सबसे बड़ा मामला नौगांव थाना क्षेत्र का था। जहां पर कोर्ट से राहत मिलने की उम्मीद थी। गुरुवार को कोर्ट में आवेदन को नॉट प्रेस करवा लिया गया है। कानूनी भाषा में नॉट प्रेस का अर्थ होता है कि ‘आप कोर्ट में दायर याचिका या आवेदन पर राहत पाने के इच्छुक नहीं है।’
जैन अभी भी पुलिस गिरफ्त से दूर
साई रेसीडेंसी कॉलोनी में बंधक प्लाट विक्रय के मामले में शुरु हुई जांच में इस कॉलोनी से जुड़े बगीचे की जमीन भी विक्रय करने की बात सामने आई है। इधर गुरुवार को जमानत को लेकर कोर्ट में कुछ लोगों ने विरोध भी दर्ज कराया था। इस मामले में श्री तिवारी के साथ आरोपित किए गए गौतम जैन निवासी इंदौर को पुलिस अभी तक पकड़ नहीं पाई है। इधर तिरला थाने में दर्ज प्रकरण में राहत मिलने के बाद तिवारी के साथ सह आरोपित लोगों को भी राहत मिल गई है।


Share To:

Post A Comment: