झाबुआ~समणी मध्यस्थ प्रज्ञा जी का हुआ भव्य प्रवेश ,हुआ विशाल धर्म सभा का आयोजन~~



झाबुआ।समणी मध्यस्थ प्रज्ञा जी ने धर्म सभा को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में देखे कितने कोर्सस हैं।एनीमेशन कोर्स फोटोग्राफी कोर्स , कंप्यूटर कोर्स,  रेडियो जॉकी कोर्स व अन्य न जाने कितने सारे कोर्सस की लंबी कतार लगी हुई हैं।कोर्सेस के बढ़ते रुझान को देखकर इस चातुर्मास के स्पेशल अवसर पर स्पेशल कोर्स ऑर्गेनाइज के लिए खोल रहे हैं।महाश्रमण कोचिंग सेंटर,जिसमें हम ऑर्गेनाइज करेंगे जैन ऐतिहासिक कोर्स , प्रेक्षा ब्यूटी कोर्स , तत्वज्ञान इंटीरियर डिजाइन कोर्स , चिल्ड्रन स्पेशल कोर्स । साथ ही साथ खुलेगा एक मैकडॉनल्ड गीत स्पेशल  कोर्स। 

इसके पश्चात कोटडीया परिवार द्वारा पारिवारिक गीत की सुंदर प्रस्तुति दी गई । तेरापंथ युवक परिषद के सदस्यों द्वारा नुक्कड़ नाटक के माध्यम से ज्ञानवर्धक प्रस्तुति दी गई तथा यह बताने का प्रयास किया गया कि चातुर्मास के दौरान हमें क्या करना है । मध्य प्रदेश के तेरापंथ के आंचलिक प्रभारी दिलीप भंडारी ने भी सभा को संबोधित किया । पंकज कोठारी ,करवड से अरुण श्रीमाल आदि अनेक वक्ताओं ने सभा में को संबोधित किया । उसके बाद समणी निर्वाण प्रज्ञा जी ने चातुर्मास के संदर्भ में फरमाते हुए कहा कि परम पूज्य आचार्य श्री महाश्रमण जी के आशीर्वाद से मुझे झाबुआ में अपनी जन्मभूमि में प्रथम चातुर्मास करने का अवसर मिला है। चातुर्मास आत्म दर्शन का काल है चातुर्मास ज्ञान ,दर्शन ,चरित और तप की आराधना का विशेष समय है ।सभी श्रावक श्राविकाए जागरूकता से धर्म आराधना करें । संयोग से त्रिवेणी संगम हुआ है दो आचार्यो और एक हमारा चातुर्मास होने से झाबुआ शहर धर्ममय नगरी बन गया है । चातुर्मास काल में खूब धर्मजागरणा हो । आलस्य व प्रमाद को दूर कर,  जागरूकता अप्रमत्ता  का वातावरण बना रहे । 

 कार्यक्रम की अगली कड़ी में तेयुप अध्यक्ष प्रमोद कोठारी ने सुंदर गीत की प्रस्तुति दी । झकनावदा के श्रावक अभय कोठारी ने भी गीत की प्रस्तुति दी । पेटलावद से श्रावक समाज से फूलचंद कांसवा व प्रीति पटवा ने अपने विचार व्यक्त किए । कार्यक्रम का सफल संचालन विशाल कोठारी ने किया तथा आभार तेरापंथ  सभा सचिव दीपक चौधरी ने माना । समणी वृंद ने मांगलिक सुनाई ।


Share To:

Post A Comment: