खिलेडी~~नागपंचमी के त्यौहार को खिलेड़ी सहित आसपास के गांवो में बड़ी ही आस्था के साथ मनाया गया।~~

जगदीश चौधरी खिलेडी6261395702~~

सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड शिव मंदिर एवं वीर तेजाजी मंदिर पर दर्शन के जमा हो रही थी नागपंचमी के पर्व को लेकर प्राचीन वीर तेजाजी मंदिर पर रात्रि जागरण रखकर प्रति वर्ष अनुसार वार्ता का आयोजन शुरु किया गया। यह आस्था का आयोजन तेजाजी दसमी तक मंदिर मे चलता रहेगा। शाम को नाग देवता की झाँकी निकाली गई गाँव के बगदीराम,कृष्णलाल मुकाति के घर से नाग की प्रतिमा को झुले मे सजाकर ढोल के साथ पुरे गाँव मे भ्रमण करते हुए झाँकी फुलेडी फाटे के तालाब  पर पहुँच कर पडित सुभाषचन्द्र चौबे के द्धारा वैदिक मंत्रो द्धारा मुकाति से पूजा अर्चना कर तालाब किनारे नाग देवता को जल से स्नान कराकर दुध,चुरमा भोग लगा कर महाआरती उतारकर महा प्रसादी बाटी गई। वही शोभायात्रा मे ग्रामीणजन भगवान के कीर्तन करते हुए चल रहे थे।

ग्रामीण क्षेत्र में नागदेवता की लोकप्रियता अत्यधिक
ग्रामीण किसान रात दिन खेतो में काम करते है वे नाग देवता को बहुत ही मान्यता देते है और इस त्यौहार पर तो ग्रामीण क्षेत्र की महिला तथा पुरूष उपवास रख कर नाग देवता के प्रति अपनी आस्था को प्राचीन समय से जीवंत रखते आ रहे है वही आज के दिन किसानों ने अपने खेत खलिहान में नाग देव के लिए पूजन कर उनके भोग के लिए दूध भी रखा यह माना जाता है कि नाग देवता स्वयं खेतो में आकर भक्तो के द्वारा चढ़ाए गए दूध का भोग लेते है।


Share To:

Post A Comment: